Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jun 2023 · 1 min read

चींटी रानी

चींटी रानी ___
चींटी रानी बड़ी सयानी
मीठी चीजों की दीवानी
है तो छोटी गुण बहुत है
काम की धुन में रहे मगन है
एक बार जो ठान लिया है
पूरा करके ही दम लिया है
दिखने में नाजुक लगती है
खुद से बीस गुना वजन ढोती है
अकेली नहीं कभी निकलती
अकसर झुंड बनाकर चलती है
नन्हीं चींटी का अजब है संसार
घर ही नहीं, बसाए शहर/परिवार
__ मनु वाशिष्ठ

2 Likes · 615 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manu Vashistha
View all
You may also like:
गया दौरे-जवानी गया गया तो गया
गया दौरे-जवानी गया गया तो गया
shabina. Naaz
बेटिया विदा हो जाती है खेल कूदकर उसी आंगन में और बहू आते ही
बेटिया विदा हो जाती है खेल कूदकर उसी आंगन में और बहू आते ही
Ranjeet kumar patre
It’s all be worthless if you lose your people on the way..
It’s all be worthless if you lose your people on the way..
पूर्वार्थ
3322.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3322.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
खोखला अहं
खोखला अहं
Madhavi Srivastava
पेटी वाला बर्फ( बाल कविता)
पेटी वाला बर्फ( बाल कविता)
Ravi Prakash
फांसी का फंदा भी कम ना था,
फांसी का फंदा भी कम ना था,
Rahul Singh
वर्तमान, अतीत, भविष्य...!!!!
वर्तमान, अतीत, भविष्य...!!!!
Jyoti Khari
■ आज का शेर...
■ आज का शेर...
*Author प्रणय प्रभात*
अभिव्यक्ति के समुद्र में, मौत का सफर चल रहा है
अभिव्यक्ति के समुद्र में, मौत का सफर चल रहा है
प्रेमदास वसु सुरेखा
🤔🤔🤔
🤔🤔🤔
शेखर सिंह
हार का पहना हार
हार का पहना हार
Sandeep Pande
साँसों के संघर्ष से, देह गई जब हार ।
साँसों के संघर्ष से, देह गई जब हार ।
sushil sarna
भ्रम
भ्रम
Shiva Awasthi
जहां से चले थे वहीं आ गए !
जहां से चले थे वहीं आ गए !
Kuldeep mishra (KD)
शहीदे आजम भगत सिंह की जीवन यात्रा
शहीदे आजम भगत सिंह की जीवन यात्रा
Ravi Yadav
हिंदू कट्टरवादिता भारतीय सभ्यता पर इस्लाम का प्रभाव है
हिंदू कट्टरवादिता भारतीय सभ्यता पर इस्लाम का प्रभाव है
Utkarsh Dubey “Kokil”
मुस्कुराहट
मुस्कुराहट
Santosh Shrivastava
इक परी हो तुम बड़ी प्यारी हो
इक परी हो तुम बड़ी प्यारी हो
Piyush Prashant
Bundeli Doha pratiyogita 142
Bundeli Doha pratiyogita 142
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
रणचंडी बन जाओ तुम
रणचंडी बन जाओ तुम
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
श्री राम अर्चन महायज्ञ
श्री राम अर्चन महायज्ञ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"निर्णय आपका"
Dr. Kishan tandon kranti
अपना - पराया
अपना - पराया
Neeraj Agarwal
कविता
कविता
Rambali Mishra
कांटें हों कैक्टस  के
कांटें हों कैक्टस के
Atul "Krishn"
अपनी शान के लिए माँ-बाप, बच्चों से ऐसा क्यों करते हैं
अपनी शान के लिए माँ-बाप, बच्चों से ऐसा क्यों करते हैं
gurudeenverma198
विधाता छंद
विधाता छंद
डॉ.सीमा अग्रवाल
अंधकार जो छंट गया
अंधकार जो छंट गया
Mahender Singh
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...