Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jan 2024 · 1 min read

चिंगारी बन लड़ा नहीं जो

चिंगारी बन लड़ा नहीं जो

चिंगारी बन लड़ा नहीं जो, उसने कब इतिहास लिखा है?
अंधेरों में जला नहीं जो, उससे कब प्रकाश खिला है?
किसी फूल के रसिया को, शुलों से नफरत नहीं चलेगा,
धूप छाँव पानी से बचकर, ना अड़हुल पर कुसुम खिलेगा।
ग्रीष्म मेघ वृष्टि बरखा से,जो भिड़ते गाथा रचते,
शीत ताप से जो बच रहते ,उनको कब मधुमास दिखा है?
चिंगारी बन लड़ा नहीं जो, उसने कब इतिहास लिखा है?

अजय अमिताभ सुमन

116 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुझ पर तुम्हारे इश्क का साया नहीं होता।
मुझ पर तुम्हारे इश्क का साया नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
दुख निवारण ब्रह्म सरोवर और हम
दुख निवारण ब्रह्म सरोवर और हम
SATPAL CHAUHAN
गुमनाम रहने दो मुझे।
गुमनाम रहने दो मुझे।
Satish Srijan
🌹 मैं सो नहीं पाया🌹
🌹 मैं सो नहीं पाया🌹
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
I hope you find someone who never makes you question your ow
I hope you find someone who never makes you question your ow
पूर्वार्थ
*लस्सी में जो है मजा, लस्सी में जो बात (कुंडलिया)*
*लस्सी में जो है मजा, लस्सी में जो बात (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
अच्छी बात है
अच्छी बात है
Ashwani Kumar Jaiswal
जो मिला ही नहीं
जो मिला ही नहीं
Dr. Rajeev Jain
*साँसों ने तड़फना कब छोड़ा*
*साँसों ने तड़फना कब छोड़ा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*कवि बनूँ या रहूँ गवैया*
*कवि बनूँ या रहूँ गवैया*
Mukta Rashmi
सरकार~
सरकार~
दिनेश एल० "जैहिंद"
मंजर जो भी देखा था कभी सपनों में हमने
मंजर जो भी देखा था कभी सपनों में हमने
कवि दीपक बवेजा
बरसें प्रभुता-मेह...
बरसें प्रभुता-मेह...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मिथ्या इस  संसार में,  अर्थहीन  सम्बंध।
मिथ्या इस संसार में, अर्थहीन सम्बंध।
sushil sarna
एक पुरुष जब एक महिला को ही सब कुछ समझ लेता है या तो वह बेहद
एक पुरुष जब एक महिला को ही सब कुछ समझ लेता है या तो वह बेहद
Rj Anand Prajapati
अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद
अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"सुखी हुई पत्ती"
Pushpraj Anant
"सन्देशा भेजने हैं मुझे"
Dr. Kishan tandon kranti
* रेल हादसा *
* रेल हादसा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2625.पूर्णिका
2625.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दो का पहाडा़
दो का पहाडा़
Rituraj shivem verma
ए जिंदगी तू सहज या दुर्गम कविता
ए जिंदगी तू सहज या दुर्गम कविता
Shyam Pandey
ताप
ताप
नन्दलाल सुथार "राही"
कभी सब तुम्हें प्यार जतायेंगे हम नहीं
कभी सब तुम्हें प्यार जतायेंगे हम नहीं
gurudeenverma198
हो भासा विग्यानी।
हो भासा विग्यानी।
Acharya Rama Nand Mandal
नारी जागरूकता
नारी जागरूकता
Kanchan Khanna
Love life
Love life
Buddha Prakash
ये मेरा हिंदुस्तान
ये मेरा हिंदुस्तान
Mamta Rani
दोहे-*
दोहे-*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...