Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Oct 2022 · 1 min read

चिंगारियां

मेरे लफ़्ज़ों में
ये छिपी हुई चिंगारियां!
झेल सकेंगी क्या
सियासत की मक्कारियां!
इनके मर्म तक
पहुंच पाएंगे वही पाठक!
जिनमें बची हुई हों
थोड़ी-बहुत खुद्दारियां!

Language: Hindi
273 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वक़्त बदल रहा है, कायनात में आती जाती हसीनाएँ बदल रही हैं पर
वक़्त बदल रहा है, कायनात में आती जाती हसीनाएँ बदल रही हैं पर
Sukoon
क्या हक़ीक़त है ,क्या फ़साना है
क्या हक़ीक़त है ,क्या फ़साना है
पूर्वार्थ
2933.*पूर्णिका*
2933.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्रेम हो जाए जिससे है भाता वही।
प्रेम हो जाए जिससे है भाता वही।
सत्य कुमार प्रेमी
सायलेंट किलर
सायलेंट किलर
Dr MusafiR BaithA
मुझे आज तक ये समझ में न आया
मुझे आज तक ये समझ में न आया
Shweta Soni
दुःख पहाड़ जैसे हों
दुःख पहाड़ जैसे हों
Sonam Puneet Dubey
कभी महफ़िल कभी तन्हा कभी खुशियाँ कभी गम।
कभी महफ़िल कभी तन्हा कभी खुशियाँ कभी गम।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
आनंद जीवन को सुखद बनाता है
आनंद जीवन को सुखद बनाता है
Shravan singh
मां तुम्हारा जाना
मां तुम्हारा जाना
अनिल कुमार निश्छल
मैं नारी हूं...!
मैं नारी हूं...!
singh kunwar sarvendra vikram
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - १०)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - १०)
Kanchan Khanna
मोहन कृष्ण मुरारी
मोहन कृष्ण मुरारी
Mamta Rani
"ख़ूबसूरत आँखे"
Ekta chitrangini
"ईख"
Dr. Kishan tandon kranti
" मटको चिड़िया "
Dr Meenu Poonia
हदें
हदें
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
जो बिकता है!
जो बिकता है!
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मौज-मस्ती
मौज-मस्ती
Vandna Thakur
*रामपुर का प्राचीनतम मंदिर ठाकुरद्वारा मंदिर (मंदिर श्री मुनीश्वर दत्त जी महाराज
*रामपुर का प्राचीनतम मंदिर ठाकुरद्वारा मंदिर (मंदिर श्री मुनीश्वर दत्त जी महाराज
Ravi Prakash
#परिहास
#परिहास
*प्रणय प्रभात*
भीतर का तूफान
भीतर का तूफान
Sandeep Pande
जिंदा होने का सबूत
जिंदा होने का सबूत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नशे में फिजा इस कदर हो गई।
नशे में फिजा इस कदर हो गई।
लक्ष्मी सिंह
भीगते हैं फिर एक बार चलकर बारिश के पानी में
भीगते हैं फिर एक बार चलकर बारिश के पानी में
इंजी. संजय श्रीवास्तव
*
*"मुस्कराने की वजह सिर्फ तुम्हीं हो"*
Shashi kala vyas
राष्ट्र निर्माण को जीवन का उद्देश्य बनाया था
राष्ट्र निर्माण को जीवन का उद्देश्य बनाया था
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
🍁अंहकार🍁
🍁अंहकार🍁
Dr. Vaishali Verma
हाथ पर हाथ धरे कुछ नही होता आशीर्वाद तो तब लगता है किसी का ज
हाथ पर हाथ धरे कुछ नही होता आशीर्वाद तो तब लगता है किसी का ज
Rj Anand Prajapati
When the ways of this world are, but
When the ways of this world are, but
Dhriti Mishra
Loading...