Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 1 min read

चाहिए

एक
विचार तो चाहिए
शब्दों के
प्रवाह के लिए
विचार तब ।
जब हो भाव
के लिए चाव।
और स्वभाव
हो संवेदनशील
जो
शब्दों के
चेहरे से
रंगत न उडा दे।
शब्दों को
अखाडेबाजी
के साथ
वाचाल
और बेकाबू नहीं
मौलिक
बनाता हो।

डा. पूनम पांडे

Language: Hindi
2 Likes · 56 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Punam Pande
View all
You may also like:
होली
होली
Manu Vashistha
मुझको बे'चैनियाँ जगा बैठी
मुझको बे'चैनियाँ जगा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम पत्र बचाने के शब्द-व्यापारी
प्रेम पत्र बचाने के शब्द-व्यापारी
Dr MusafiR BaithA
प्रकृति
प्रकृति
नवीन जोशी 'नवल'
हमारी समस्या का समाधान केवल हमारे पास हैl
हमारी समस्या का समाधान केवल हमारे पास हैl
Ranjeet kumar patre
क्या हुआ , क्या हो रहा है और क्या होगा
क्या हुआ , क्या हो रहा है और क्या होगा
कृष्ण मलिक अम्बाला
दुर्जन ही होंगे जो देंगे दुर्जन का साथ ,
दुर्जन ही होंगे जो देंगे दुर्जन का साथ ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
प्रकृति ने चेताया जग है नश्वर
प्रकृति ने चेताया जग है नश्वर
Buddha Prakash
एक ही बात याद रखो अपने जीवन में कि ...
एक ही बात याद रखो अपने जीवन में कि ...
Vinod Patel
धरती का बेटा
धरती का बेटा
Prakash Chandra
एकादशी
एकादशी
Shashi kala vyas
तितली के तेरे पंख
तितली के तेरे पंख
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
💐 Prodigy Love-19💐
💐 Prodigy Love-19💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■ शर्मनाक हालात
■ शर्मनाक हालात
*Author प्रणय प्रभात*
मंगलमय कर दो प्रभो ,जटिल जगत की राह (कुंडलिया)
मंगलमय कर दो प्रभो ,जटिल जगत की राह (कुंडलिया)
Ravi Prakash
माँ
माँ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वक्त गिरवी सा पड़ा है जिंदगी ( नवगीत)
वक्त गिरवी सा पड़ा है जिंदगी ( नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
एक तुम्हारे होने से...!!
एक तुम्हारे होने से...!!
Kanchan Khanna
कई रात को भोर किया है
कई रात को भोर किया है
कवि दीपक बवेजा
यूज एण्ड थ्रो युवा पीढ़ी
यूज एण्ड थ्रो युवा पीढ़ी
Ashwani Kumar Jaiswal
सच हमारे जीवन के नक्षत्र होते हैं।
सच हमारे जीवन के नक्षत्र होते हैं।
Neeraj Agarwal
प्रार्थना
प्रार्थना
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
शहद टपकता है जिनके लहजे से
शहद टपकता है जिनके लहजे से
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मेरी तकलीफ़ पे तुझको भी रोना चाहिए।
मेरी तकलीफ़ पे तुझको भी रोना चाहिए।
पूर्वार्थ
*विभाजित जगत-जन! यह सत्य है।*
*विभाजित जगत-जन! यह सत्य है।*
संजय कुमार संजू
गिरोहबंदी ...
गिरोहबंदी ...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आता एक बार फिर से तो
आता एक बार फिर से तो
Dr Manju Saini
मंजिल तक पहुंचने
मंजिल तक पहुंचने
Dr.Rashmi Mishra
ज्ञान-दीपक
ज्ञान-दीपक
Pt. Brajesh Kumar Nayak
वक्त नहीं
वक्त नहीं
Vandna Thakur
Loading...