Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Apr 2023 · 1 min read

चाहने वाले कम हो जाए तो चलेगा…।

चाहने वाले कम हो जाए तो चलेगा…।
लेकिन जलने वाले की संख्या बरकरार रहना चाहिए।।

1106 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"प्रेरणा के स्रोत"
Dr. Kishan tandon kranti
खास हम नहीं मिलते तो
खास हम नहीं मिलते तो
gurudeenverma198
दिल है के खो गया है उदासियों के मौसम में.....कहीं
दिल है के खो गया है उदासियों के मौसम में.....कहीं
shabina. Naaz
Jindagi ka kya bharosa,
Jindagi ka kya bharosa,
Sakshi Tripathi
*** मेरा पहरेदार......!!! ***
*** मेरा पहरेदार......!!! ***
VEDANTA PATEL
बचपन कितना सुंदर था।
बचपन कितना सुंदर था।
Surya Barman
गौ माता...!!
गौ माता...!!
Ravi Betulwala
कुछ रिश्तो में हम केवल ..जरूरत होते हैं जरूरी नहीं..! अपनी अ
कुछ रिश्तो में हम केवल ..जरूरत होते हैं जरूरी नहीं..! अपनी अ
पूर्वार्थ
सधे कदम
सधे कदम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
लक्ष्य एक होता है,
लक्ष्य एक होता है,
नेताम आर सी
आसा.....नहीं जीना गमों के साथ अकेले में.
आसा.....नहीं जीना गमों के साथ अकेले में.
कवि दीपक बवेजा
2993.*पूर्णिका*
2993.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
निकलो…
निकलो…
Rekha Drolia
नया साल
नया साल
'अशांत' शेखर
दुख वो नहीं होता,
दुख वो नहीं होता,
Vishal babu (vishu)
Quote..
Quote..
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
अबके रंग लगाना है
अबके रंग लगाना है
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
बस गया भूतों का डेरा
बस गया भूतों का डेरा
Buddha Prakash
నమో సూర్య దేవా
నమో సూర్య దేవా
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
शिकारी संस्कृति के
शिकारी संस्कृति के
Sanjay ' शून्य'
ध्यान में इक संत डूबा मुस्कुराए
ध्यान में इक संत डूबा मुस्कुराए
Shivkumar Bilagrami
कृष्ण चतुर्थी भाद्रपद, है गणेशावतार
कृष्ण चतुर्थी भाद्रपद, है गणेशावतार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
* मुझे क्या ? *
* मुझे क्या ? *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*पत्रिका समीक्षा*
*पत्रिका समीक्षा*
Ravi Prakash
"सियासत का सेंसेक्स"
*Author प्रणय प्रभात*
लोहा ही नहीं धार भी उधार की उनकी
लोहा ही नहीं धार भी उधार की उनकी
Dr MusafiR BaithA
" पलास "
Pushpraj Anant
बह रही थी जो हवा
बह रही थी जो हवा
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
रोम-रोम में राम....
रोम-रोम में राम....
डॉ.सीमा अग्रवाल
जिंदगी तूने  ख्वाब दिखाकर
जिंदगी तूने ख्वाब दिखाकर
goutam shaw
Loading...