Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Mar 2023 · 1 min read

चाहत

किसी की चाहत में हम खुद को भुला बैठे ,
होश जब आए तब इल्म़ हुआ क्या कुछ गवां बैठे ,
खुद को दीवाना बना भटकते रहे सराबों में ,
ग़म को गलत करते रहे मय़नोशी की राहों में ,
हम समझ ना सके ये अपना नसीब है ,
वो तो अपने किसी रक़ीब के क़रीब है ,
जिनकी ख़ातिर हम क़ुर्बान होकर रह गए ,
वो संग-दिल हमें ठुकरा किसी और के हो गए ,

2 Likes · 268 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
मोहब्बत
मोहब्बत
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
तेरी सादगी को निहारने का दिल करता हैं ,
तेरी सादगी को निहारने का दिल करता हैं ,
Vishal babu (vishu)
कोरा कागज और मेरे अहसास.....
कोरा कागज और मेरे अहसास.....
Santosh Soni
क्या लिखूँ
क्या लिखूँ
Dr. Rajeev Jain
* साथ जब बढ़ना हमें है *
* साथ जब बढ़ना हमें है *
surenderpal vaidya
(7) सरित-निमंत्रण ( स्वेद बिंदु से गीला मस्तक--)
(7) सरित-निमंत्रण ( स्वेद बिंदु से गीला मस्तक--)
Kishore Nigam
कितना कोलाहल
कितना कोलाहल
Bodhisatva kastooriya
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
इंसान और कुता
इंसान और कुता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
इंसान की चाहत है, उसे उड़ने के लिए पर मिले
इंसान की चाहत है, उसे उड़ने के लिए पर मिले
Satyaveer vaishnav
#शुभ_प्रतिपदा
#शुभ_प्रतिपदा
*प्रणय प्रभात*
⚜️गुरु और शिक्षक⚜️
⚜️गुरु और शिक्षक⚜️
SPK Sachin Lodhi
मेरा गुरूर है पिता
मेरा गुरूर है पिता
VINOD CHAUHAN
करवाचौथ
करवाचौथ
Dr Archana Gupta
हमको
हमको
Divya Mishra
हाजीपुर
हाजीपुर
Hajipur
दिल किसी से
दिल किसी से
Dr fauzia Naseem shad
किरायेदार
किरायेदार
Keshi Gupta
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आइसक्रीम
आइसक्रीम
Neeraj Agarwal
वाणी में शालीनता ,
वाणी में शालीनता ,
sushil sarna
तेरा नाम रहेगा रोशन, जय हिंद, जय भारत
तेरा नाम रहेगा रोशन, जय हिंद, जय भारत
gurudeenverma198
शाश्वत सत्य
शाश्वत सत्य
Dr.Priya Soni Khare
सुन्दर सलोनी
सुन्दर सलोनी
जय लगन कुमार हैप्पी
द्वंद्वात्मक आत्मा
द्वंद्वात्मक आत्मा
पूर्वार्थ
प्रेम भरी नफरत
प्रेम भरी नफरत
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
दीवार
दीवार
अखिलेश 'अखिल'
"पाठशाला"
Dr. Kishan tandon kranti
हौंसले को समेट कर मेघ बन
हौंसले को समेट कर मेघ बन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मेरे हाथों से छूट गई वो नाजुक सी डोर,
मेरे हाथों से छूट गई वो नाजुक सी डोर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...