Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Feb 2017 · 1 min read

चाहत बहुत है।

बन गई है ये चाह्त दुसमन हमारी अब तुम्हे चाहने की चाहत बहुत है,
भुलाने की आदत तुम्हारी थी पागल याद आने की फितरत हमारी बहुत है,
सुबह जो कभी साथ ये साँस छोड़े पर क्या तुम्हे छोड़ने की आदत बहुत है,
गमो की थी बस्ती दुखो को जलाया उजाला किया हर खुसी को राख कर के ,
वो आये कमजर्फ मुस्करा के बोले तुम्हारे आसियाने में अंधेरा बहुत है ,
जमाने की फितरत और तेरी बेवफाई थोड़ा दर्द मेरा जिस में ज़माने की खुसी थी समायी ,
फिर लगी आग ऐसी जिगर को जलाने ,
वो छुड़ा हाथ दूर जा कर के बोले तुम्हे दर्द सहने की आदत बहुत है ,
उतारा नकाब जो हमने आशिकी का खुला राज़ फिर उसकी दिल्लगी का ,
कसम खायी जाना इस जमाने में धोखे बहुत है ,
बन गयी है ये चाहत दुसमन हमारी अब तुम्हे चाहने की चाहत बहुत है ।

Language: Hindi
1 Like · 230 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरी  हर इक शाम उम्मीदों में गुजर जाती है।। की आएंगे किस रोज
मेरी हर इक शाम उम्मीदों में गुजर जाती है।। की आएंगे किस रोज
★ IPS KAMAL THAKUR ★
जब-जब सत्ताएँ बनी,
जब-जब सत्ताएँ बनी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ऐसा इजहार करू
ऐसा इजहार करू
Basant Bhagawan Roy
कुछ चूहे थे मस्त बडे
कुछ चूहे थे मस्त बडे
Vindhya Prakash Mishra
तू सरिता मै सागर हूँ
तू सरिता मै सागर हूँ
Satya Prakash Sharma
इन तूफानों का डर हमको कुछ भी नहीं
इन तूफानों का डर हमको कुछ भी नहीं
gurudeenverma198
पत्रकार
पत्रकार
Kanchan Khanna
साए
साए
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
शाकाहारी
शाकाहारी
डिजेन्द्र कुर्रे
"मौत की सजा पर जीने की चाह"
Pushpraj Anant
गणित का एक कठिन प्रश्न ये भी
गणित का एक कठिन प्रश्न ये भी
शेखर सिंह
फितरत
फितरत
Dr fauzia Naseem shad
*एक चूहा*
*एक चूहा*
Ghanshyam Poddar
"रफ-कॉपी"
Dr. Kishan tandon kranti
चाहत 'तुम्हारा' नाम है, पर तुम्हें पाने की 'तमन्ना' मुझे हो
चाहत 'तुम्हारा' नाम है, पर तुम्हें पाने की 'तमन्ना' मुझे हो
Sukoon
बहारों कि बरखा
बहारों कि बरखा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सम्पूर्ण सनातन
सम्पूर्ण सनातन
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
महकती रात सी है जिंदगी आंखों में निकली जाय।
महकती रात सी है जिंदगी आंखों में निकली जाय।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*बादल (बाल कविता)*
*बादल (बाल कविता)*
Ravi Prakash
काश कभी ऐसा हो पाता
काश कभी ऐसा हो पाता
Rajeev Dutta
बेटी दिवस पर
बेटी दिवस पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
जिसने अपने जीवन में दर्द नहीं झेले उसने अपने जीवन में सुख भी
जिसने अपने जीवन में दर्द नहीं झेले उसने अपने जीवन में सुख भी
Rj Anand Prajapati
स्त्री श्रृंगार
स्त्री श्रृंगार
विजय कुमार अग्रवाल
2518.पूर्णिका
2518.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*माना के आज मुश्किल है पर वक्त ही तो है,,
*माना के आज मुश्किल है पर वक्त ही तो है,,
Vicky Purohit
कठिनाई  को पार करते,
कठिनाई को पार करते,
manisha
तुम न समझ पाओगे .....
तुम न समझ पाओगे .....
sushil sarna
अधूरा सफ़र
अधूरा सफ़र
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
चलो बनाएं
चलो बनाएं
Sûrëkhâ Rãthí
पावस की ऐसी रैन सखी
पावस की ऐसी रैन सखी
लक्ष्मी सिंह
Loading...