Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jun 2016 · 2 min read

चार गज़लें — गज़ल पर

गज़ल निर्मला कपिला
1——-
मेरे दिल की’ धड़कन बनी हर गज़ल
हां रहती है साँसों मे अक्सर गज़ल

इनायत रफाकत रहाफत लिये
जुबां पर गजल दिल के दरपर गजल

कसक दर्द गम भी हैं इसमें बड़े
मगर है तजुरबों का सागर ग़ज़ल

मनाऊं तो कैसे बुलाऊँ भी क्या
जो रहती हो नाराज तनकर ग़ज़ल

है शोखी शरारत है नाज-ओ सितम
हसीना से कुछ भी न कमतर ग़ज़ल

लियाकत जहानत जलाकत भरी
मुहब्बत से लाया है बुनकर ग़ज़ल

चिरागों से कह दो जरूरत नहीं
जलावत से आयी है भरकर ग़ज़ल

2 गज़ल —————————–

मुहब्बत से निकली निखरकर ग़ज़ल
खड़ी हो गयी फिर बिखरकर ग़ज़ल

कहीं तीरगी सी लगी हर गज़ल
जिगर में चुभी बन के नश्तर ग़ज़ल

कशिश थी इशारे थे कहीं कुछ तो था
दिखा चाँद जैसे थी छतपर ग़ज़ल

न देखा जिसे और’ न जाना कभी
खड़ी आज मेरे वो दरपर ग़ज़ल

मुहब्बत से छूआ उसे बार बार
बसी साँसों’ में मेरी’ हसकर ग़ज़ल

भले आज वल्लाह कहते हों लोग
थी दुत्कारी बेबह्र कहकर ग़ज़ल

लगी पाबंदी बह्र की और फिर
रही काफियों में उलझकर ग़ज़ल

3 गज़ल ————————

गिरी बादलों से छिटक कर ग़ज़ल
घटा बन के बरसी कड़ककर ग़ज़ल

नजाकत बड़ी थी हिमाकत बड़ी
किसी ने भी देखी न छूकर ग़ज़ल

सहेली सहारा सभी कुछ तुम्ही
बनी आज मेरी तू रहबर ग़ज़ल

कभी दर्द कोई न उसने कहा
मगर आज रोई है क्योंकर ग़ज़ल

चुराए हैं आंसू कई मेरे पर
न अपना कहे दर्द खुलकर ग़ज़ल

शमा की तरह से जली रात दिन
सिसकती रही रोज जलकर ग़ज़ल

हरिक बार उससे मिली आप मैं
न आयी कभी खुद से चलकर ग़ज़ल

4 गज़ल —————————

मेरी हो गयी आज दिलबर ग़ज़ल
जो आयी है बह्रों से छनकर ग़ज़ल

रकीबो के पाले मे देखा मुझे
लो तड़पी हुयी राख जलकर ग़ज़ल

मैं भौंचक खड़ी देखती रह गयी
गिरी हाथ से जब छिटककर ग़ज़ल

है दिल की जुबाँ एहसासो का सुर
कहीं रूह से निकली मचलकर ग़ज़ल

नहीं टूटी अब तक किसी बार से
रही मुस्कुराती है खिलकर गज़ल

हुये दूर शिकवे गिले आज सब
मिली है गले आज लगकर ग़ज़ल

न भाता मुझे कुछ गज़ल के सिवा
रखूंगी मै दिल से लगाकर गज़ल

2 Comments · 382 Views
You may also like:
जल
Saraswati Bajpai
कहते हो हमको दुश्मन
gurudeenverma198
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️हम वतनपरस्त जागते रहे..✍️
'अशांत' शेखर
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
Prakash Chandra
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
नीति के दोहे 2
Rakesh Pathak Kathara
इक्यावन इन्द्रधनुषी ग़ज़लें
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Aksharjeet shayari..अपनी गलतीयों से बहुत कूछ सिखा हैं मैने ...
AK Your Quote Shayari
अंदाज़ ही निराला है।
Taj Mohammad
कोई तो जाके उसे मेरे दिल का हाल समझाये...!!
Ravi Malviya
सरस्वती वंदना
Shailendra Aseem
भिखारी छंद एवं विधाएँ
Subhash Singhai
सार संभार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
वर्तमान से वक्त बचा लो:चतुर्थ भाग
AJAY AMITABH SUMAN
जानती हूँ मैं की हर बार तुझे लौट कर आना...
Manisha Manjari
“दिव्य दर्शन देवभूमि का” ( यात्रा -संस्मरण )
DrLakshman Jha Parimal
अथक प्रयास हो
Dr fauzia Naseem shad
【20】 ** भाई - भाई का प्यार खो गया **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मत समझना....
Seema 'Tu hai na'
हमरा अप्पन निज धाम चाही...
मनोज कर्ण
गरीबी
कवि दीपक बवेजा
सरकार और नेता कैसे होने चाहिए
Ram Krishan Rastogi
शोहरत और बंदर
सूर्यकांत द्विवेदी
दीपावली
Dr Meenu Poonia
जिंदगी
लक्ष्मी सिंह
"कुछ तो गुन-गुना रही हो"☺️
Lohit Tamta
నా తెలుగు భాష..
विजय कुमार 'विजय'
फूल की महक
DESH RAJ
Loading...