Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

चार गज़लें — गज़ल पर

गज़ल निर्मला कपिला
1——-
मेरे दिल की’ धड़कन बनी हर गज़ल
हां रहती है साँसों मे अक्सर गज़ल

इनायत रफाकत रहाफत लिये
जुबां पर गजल दिल के दरपर गजल

कसक दर्द गम भी हैं इसमें बड़े
मगर है तजुरबों का सागर ग़ज़ल

मनाऊं तो कैसे बुलाऊँ भी क्या
जो रहती हो नाराज तनकर ग़ज़ल

है शोखी शरारत है नाज-ओ सितम
हसीना से कुछ भी न कमतर ग़ज़ल

लियाकत जहानत जलाकत भरी
मुहब्बत से लाया है बुनकर ग़ज़ल

चिरागों से कह दो जरूरत नहीं
जलावत से आयी है भरकर ग़ज़ल

2 गज़ल —————————–

मुहब्बत से निकली निखरकर ग़ज़ल
खड़ी हो गयी फिर बिखरकर ग़ज़ल

कहीं तीरगी सी लगी हर गज़ल
जिगर में चुभी बन के नश्तर ग़ज़ल

कशिश थी इशारे थे कहीं कुछ तो था
दिखा चाँद जैसे थी छतपर ग़ज़ल

न देखा जिसे और’ न जाना कभी
खड़ी आज मेरे वो दरपर ग़ज़ल

मुहब्बत से छूआ उसे बार बार
बसी साँसों’ में मेरी’ हसकर ग़ज़ल

भले आज वल्लाह कहते हों लोग
थी दुत्कारी बेबह्र कहकर ग़ज़ल

लगी पाबंदी बह्र की और फिर
रही काफियों में उलझकर ग़ज़ल

3 गज़ल ————————

गिरी बादलों से छिटक कर ग़ज़ल
घटा बन के बरसी कड़ककर ग़ज़ल

नजाकत बड़ी थी हिमाकत बड़ी
किसी ने भी देखी न छूकर ग़ज़ल

सहेली सहारा सभी कुछ तुम्ही
बनी आज मेरी तू रहबर ग़ज़ल

कभी दर्द कोई न उसने कहा
मगर आज रोई है क्योंकर ग़ज़ल

चुराए हैं आंसू कई मेरे पर
न अपना कहे दर्द खुलकर ग़ज़ल

शमा की तरह से जली रात दिन
सिसकती रही रोज जलकर ग़ज़ल

हरिक बार उससे मिली आप मैं
न आयी कभी खुद से चलकर ग़ज़ल

4 गज़ल —————————

मेरी हो गयी आज दिलबर ग़ज़ल
जो आयी है बह्रों से छनकर ग़ज़ल

रकीबो के पाले मे देखा मुझे
लो तड़पी हुयी राख जलकर ग़ज़ल

मैं भौंचक खड़ी देखती रह गयी
गिरी हाथ से जब छिटककर ग़ज़ल

है दिल की जुबाँ एहसासो का सुर
कहीं रूह से निकली मचलकर ग़ज़ल

नहीं टूटी अब तक किसी बार से
रही मुस्कुराती है खिलकर गज़ल

हुये दूर शिकवे गिले आज सब
मिली है गले आज लगकर ग़ज़ल

न भाता मुझे कुछ गज़ल के सिवा
रखूंगी मै दिल से लगाकर गज़ल

2 Comments · 288 Views
You may also like:
जानें कैसा धोखा है।
Taj Mohammad
सुबह - सवेरा
AMRESH KUMAR VERMA
मेरे पापा जैसे कोई नहीं.......... है न खुदा
Nitu Sah
ज़रा सामने बैठो।
Taj Mohammad
उफ्फ! ये गर्मी मार ही डालेगी
Deepak Kohli
✍️सिर्फ दो पल...दो बातें✍️
"अशांत" शेखर
मैं चिर पीड़ा का गायक हूं
विमल शर्मा'विमल'
सालो लग जाती है रूठे को मानने में
Anuj yadav
ट्रेजरी का पैसा
Mahendra Rai
उपहार (फ़ादर्स डे पर विशेष)
drpranavds
अज़ल की हर एक सांस जैसे गंगा का पानी है./लवकुश...
लवकुश यादव "अज़ल"
शिखर छुऊंगा एक दिन
AMRESH KUMAR VERMA
धीरता संग रखो धैर्य
Dr. Alpa H. Amin
जला दिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
नुमाइश बना दी तुने I
Dr.sima
लगा हूँ...
Sandeep Albela
प्रेयसी पुनीता
Mahendra Rai
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"लाइलाज दर्द"
DESH RAJ
** The Highway road **
Buddha Prakash
बद्दुआ बन गए है।
Taj Mohammad
दर्द।
Taj Mohammad
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
अशक्त परिंदा
AMRESH KUMAR VERMA
अपनी क़िस्मत को फिर बदल कर देखते हैं
Muhammad Asif Ali
संघर्ष
Arjun Chauhan
बेवफाओं के शहर में कुछ वफ़ा कर जाऊं
Ram Krishan Rastogi
श्री गंगा दशहरा द्वार पत्र (उत्तराखंड परंपरा )
श्याम सिंह बिष्ट
विद्या पर दोहे
Dr. Sunita Singh
दोहा में लय, समकल -विषमकल, दग्धाक्षर , जगण पर विचार...
Subhash Singhai
Loading...