Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jun 2016 · 2 min read

चार गज़लें — गज़ल पर

गज़ल निर्मला कपिला
1——-
मेरे दिल की’ धड़कन बनी हर गज़ल
हां रहती है साँसों मे अक्सर गज़ल

इनायत रफाकत रहाफत लिये
जुबां पर गजल दिल के दरपर गजल

कसक दर्द गम भी हैं इसमें बड़े
मगर है तजुरबों का सागर ग़ज़ल

मनाऊं तो कैसे बुलाऊँ भी क्या
जो रहती हो नाराज तनकर ग़ज़ल

है शोखी शरारत है नाज-ओ सितम
हसीना से कुछ भी न कमतर ग़ज़ल

लियाकत जहानत जलाकत भरी
मुहब्बत से लाया है बुनकर ग़ज़ल

चिरागों से कह दो जरूरत नहीं
जलावत से आयी है भरकर ग़ज़ल

2 गज़ल —————————–

मुहब्बत से निकली निखरकर ग़ज़ल
खड़ी हो गयी फिर बिखरकर ग़ज़ल

कहीं तीरगी सी लगी हर गज़ल
जिगर में चुभी बन के नश्तर ग़ज़ल

कशिश थी इशारे थे कहीं कुछ तो था
दिखा चाँद जैसे थी छतपर ग़ज़ल

न देखा जिसे और’ न जाना कभी
खड़ी आज मेरे वो दरपर ग़ज़ल

मुहब्बत से छूआ उसे बार बार
बसी साँसों’ में मेरी’ हसकर ग़ज़ल

भले आज वल्लाह कहते हों लोग
थी दुत्कारी बेबह्र कहकर ग़ज़ल

लगी पाबंदी बह्र की और फिर
रही काफियों में उलझकर ग़ज़ल

3 गज़ल ————————

गिरी बादलों से छिटक कर ग़ज़ल
घटा बन के बरसी कड़ककर ग़ज़ल

नजाकत बड़ी थी हिमाकत बड़ी
किसी ने भी देखी न छूकर ग़ज़ल

सहेली सहारा सभी कुछ तुम्ही
बनी आज मेरी तू रहबर ग़ज़ल

कभी दर्द कोई न उसने कहा
मगर आज रोई है क्योंकर ग़ज़ल

चुराए हैं आंसू कई मेरे पर
न अपना कहे दर्द खुलकर ग़ज़ल

शमा की तरह से जली रात दिन
सिसकती रही रोज जलकर ग़ज़ल

हरिक बार उससे मिली आप मैं
न आयी कभी खुद से चलकर ग़ज़ल

4 गज़ल —————————

मेरी हो गयी आज दिलबर ग़ज़ल
जो आयी है बह्रों से छनकर ग़ज़ल

रकीबो के पाले मे देखा मुझे
लो तड़पी हुयी राख जलकर ग़ज़ल

मैं भौंचक खड़ी देखती रह गयी
गिरी हाथ से जब छिटककर ग़ज़ल

है दिल की जुबाँ एहसासो का सुर
कहीं रूह से निकली मचलकर ग़ज़ल

नहीं टूटी अब तक किसी बार से
रही मुस्कुराती है खिलकर गज़ल

हुये दूर शिकवे गिले आज सब
मिली है गले आज लगकर ग़ज़ल

न भाता मुझे कुछ गज़ल के सिवा
रखूंगी मै दिल से लगाकर गज़ल

2 Comments · 595 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
माँ
माँ
Arvina
घर के आंगन में
घर के आंगन में
Shivkumar Bilagrami
जीवन अप्रत्याशित
जीवन अप्रत्याशित
पूर्वार्थ
* दिल बहुत उदास है *
* दिल बहुत उदास है *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मेरी कलम......
मेरी कलम......
Naushaba Suriya
पढ़ने की रंगीन कला / MUSAFIR BAITHA
पढ़ने की रंगीन कला / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
शिक्षित बेटियां मजबूत समाज
शिक्षित बेटियां मजबूत समाज
श्याम सिंह बिष्ट
आज खुश हे तु इतना, तेरी खुशियों में
आज खुश हे तु इतना, तेरी खुशियों में
Swami Ganganiya
*Dr Arun Kumar shastri*
*Dr Arun Kumar shastri*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
■ मानवता से दानवता की ओर जाना काहे का विकास?₹
■ मानवता से दानवता की ओर जाना काहे का विकास?₹
*Author प्रणय प्रभात*
रोम-रोम में राम....
रोम-रोम में राम....
डॉ.सीमा अग्रवाल
मुस्कानों की परिभाषाएँ
मुस्कानों की परिभाषाएँ
Shyam Tiwari
हरे कृष्णा !
हरे कृष्णा !
MUSKAAN YADAV
कुछ मन की कोई बात लिख दूँ...!
कुछ मन की कोई बात लिख दूँ...!
Aarti sirsat
ऊंचाई को छूने में गिरना भी लाजमी है
ऊंचाई को छूने में गिरना भी लाजमी है
'अशांत' शेखर
*भव-पालक की प्यारी गैय्या कलियुग में लाचार*
*भव-पालक की प्यारी गैय्या कलियुग में लाचार*
Poonam Matia
तुझे नेकियों के मुँह से
तुझे नेकियों के मुँह से
Shweta Soni
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
Jyoti Khari
गुरु अंगद देव
गुरु अंगद देव
कवि रमेशराज
मेरी पलकों पे ख़्वाब रहने दो
मेरी पलकों पे ख़्वाब रहने दो
Dr fauzia Naseem shad
मैं चाँद को तोड़ कर लाने से रहा,
मैं चाँद को तोड़ कर लाने से रहा,
Vishal babu (vishu)
बम से दुश्मन मार गिराए( बाल कविता )
बम से दुश्मन मार गिराए( बाल कविता )
Ravi Prakash
💐प्रेम कौतुक-325💐
💐प्रेम कौतुक-325💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रामफल मंडल (शहीद)
रामफल मंडल (शहीद)
Shashi Dhar Kumar
हंसकर मुझे तू कर विदा
हंसकर मुझे तू कर विदा
gurudeenverma198
उलझते रिश्तो में मत उलझिये
उलझते रिश्तो में मत उलझिये
Harminder Kaur
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
साधना की मन सुहानी भोर से
साधना की मन सुहानी भोर से
OM PRAKASH MEENA
आश भरी ऑखें
आश भरी ऑखें
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
बचपन की यादें
बचपन की यादें
प्रीतम श्रावस्तवी
Loading...