Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Aug 2023 · 2 min read

चाय पार्टी

शालिनी आज सुबह से उठकर नहा धोकर तैयार हो गई थी और उसने आज ब्रांड न्यू साड़ी भी पहन रखी थी। सुबह से उसका साज श्रृंगार चल ही रहा था, आज उसने खुद को गहनों में लाद लिया था मानों आज उसे किसी फैशन शो में हिस्सा लेना हो।

शालिनी को ऐसे सजते संवरते देखकर उसकी 6 साल की मासूम बेटी आराध्या ने उसके पास आकर उसे पूछा।

आराध्या : मम्मा आज हम कहीं जा रहे हैं क्या….. या फिर आज कोई त्योहार है……

शालिनी : नहीं बेटा……..हम कहीं नहीं जा रहे …….और न ही आज कोई त्योहार है…….

आराध्या : तो फिर मम्मा…….आज आप इतना अच्छे से तैयार क्यों हो रहे हो…….मुझे भी बताओ ना……

शालिनी : बेटा……आज मेरी सहेलियों को मैने चाय पार्टी पर बुलाया है…….कुछ ही देर में वो सब आती ही होंगी……

आराध्या :(बड़ी मासूमियत से) लेकिन मम्मा…….अभी तो कामवाली दीदी की तबियत खराब है……..और वो काम में नहीं आ रही है……..तो फिर इतने सारे मेहमानों के लिए चाय पार्टी की व्यवस्था कैसे होगी…….

शालिनी : कितना सवाल करती है…….वो है न तेरी दादी……क्या वो मेरी सहेलियों के लिए चाय पार्टी का इंतजाम नहीं कर सकेंगी…….(थोड़ा झुंझलाकर बोली)

अपनी मम्मी के मुंह से ऐसा जवाब सुनकर मासूम आराध्या कुछ देर तक सोचती रही और उसने मन ही मन विचार किया कि उन्हें जब पहले से पता है कि कामवाली दीदी नहीं आ रही तो भी अपनी सहेलियों को बुलाना और खुद उनके साथ सज धजकर बैठना और उनके लिए चाय पार्टी की व्यवस्था दादी से करवाना क्या सही है।

आजकल बहुत से घरों में यह देखा जाता है कि बहुएं अपने साजो श्रृंगार में लगी रहती हैं और अपने मायके वालों को या सहेलियों को निमंत्रण देकर उनके स्वागत का इंतजाम अपने घर के बुजुर्गों से करवाकर उन्हें सबके सामने जलील करते हैं।

जिन मां बाप ने हजारों मुश्किलें झेलकर अपने बेटे का भविष्य संवारा हो और उसके लिए बहू चुनकर इस घर में लेकर आए थे उन्हीं के साथ ऐसा व्यवहार बहुत ही अनुचित है।
✍️ मुकेश कुमार सोनकर “सोनकर जी”
रायपुर, छत्तीसगढ़

1 Like · 149 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन को
जीवन को
Dr fauzia Naseem shad
मोहब्बत
मोहब्बत
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
दवाइयां जब महंगी हो जाती हैं, ग़रीब तब ताबीज पर यकीन करने लग
दवाइयां जब महंगी हो जाती हैं, ग़रीब तब ताबीज पर यकीन करने लग
Jogendar singh
बाबू
बाबू
Ajay Mishra
दूसरों को समझने से बेहतर है खुद को समझना । फिर दूसरों को समझ
दूसरों को समझने से बेहतर है खुद को समझना । फिर दूसरों को समझ
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
कौआ और कोयल ( दोस्ती )
कौआ और कोयल ( दोस्ती )
VINOD CHAUHAN
अच्छा लगने लगा है उसे
अच्छा लगने लगा है उसे
Vijay Nayak
चार दिन की जिंदगी मे किस कतरा के चलु
चार दिन की जिंदगी मे किस कतरा के चलु
Sampada
डबूले वाली चाय
डबूले वाली चाय
Shyam Sundar Subramanian
फितरत
फितरत
Kanchan Khanna
धूमिल होती यादों का, आज भी इक ठिकाना है।
धूमिल होती यादों का, आज भी इक ठिकाना है।
Manisha Manjari
चांद सितारे चाहत हैं तुम्हारी......
चांद सितारे चाहत हैं तुम्हारी......
Neeraj Agarwal
मौन मंजिल मिली औ सफ़र मौन है ।
मौन मंजिल मिली औ सफ़र मौन है ।
Arvind trivedi
वतन हमारा है, गीत इसके गाते है।
वतन हमारा है, गीत इसके गाते है।
सत्य कुमार प्रेमी
Who am I?
Who am I?
R. H. SRIDEVI
नफ़्स
नफ़्स
निकेश कुमार ठाकुर
दूध-जले मुख से बिना फूंक फूंक के कही गयी फूहड़ बात! / MUSAFIR BAITHA
दूध-जले मुख से बिना फूंक फूंक के कही गयी फूहड़ बात! / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
दिन में तुम्हें समय नहीं मिलता,
दिन में तुम्हें समय नहीं मिलता,
Dr. Man Mohan Krishna
तुम करो वैसा, जैसा मैं कहता हूँ
तुम करो वैसा, जैसा मैं कहता हूँ
gurudeenverma198
मिलेट/मोटा अनाज
मिलेट/मोटा अनाज
लक्ष्मी सिंह
मैं तुलसी तेरे आँगन की
मैं तुलसी तेरे आँगन की
Shashi kala vyas
हँस लो! आज  दर-ब-दर हैं
हँस लो! आज दर-ब-दर हैं
गुमनाम 'बाबा'
संस्कार और अहंकार में बस इतना फर्क है कि एक झुक जाता है दूसर
संस्कार और अहंकार में बस इतना फर्क है कि एक झुक जाता है दूसर
Rj Anand Prajapati
हर सीज़न की
हर सीज़न की
*प्रणय प्रभात*
हम करें तो...
हम करें तो...
डॉ.सीमा अग्रवाल
*सर्वोत्तम शाकाहार है (गीत)*
*सर्वोत्तम शाकाहार है (गीत)*
Ravi Prakash
इतनी जल्दी दुनियां की
इतनी जल्दी दुनियां की
नेताम आर सी
जय माँ दुर्गा देवी,मैया जय अंबे देवी...
जय माँ दुर्गा देवी,मैया जय अंबे देवी...
Harminder Kaur
"कैसा जमाना आया?"
Dr. Kishan tandon kranti
फागुन होली
फागुन होली
Khaimsingh Saini
Loading...