Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jul 2023 · 1 min read

चाय कलियुग का वह अमृत है जिसके साथ बड़ी बड़ी चर्चाएं होकर बड

चाय कलियुग का वह अमृत है जिसके साथ बड़ी बड़ी चर्चाएं होकर बड़े बड़े फैसले ले लिए जाते हैं,बड़ी बड़ी समस्याएं हल हो जाती हैं।आम व खास के साथ चाय भेद भाव नहीं करती और दोनों को ताजगी प्रदान करती है परंतु आजकल अदरक के मिजाज के कारण चाय अपनी समस्या नहीं हल कर पा रही। बेस्वाद होकर अवसाद में जा रही है।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव ओम

1 Like · 311 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Even If I Ever Died
Even If I Ever Died
Manisha Manjari
"मैं आज़ाद हो गया"
Lohit Tamta
अरविंद पासवान की कविताओं में दलित अनुभूति// आनंद प्रवीण
अरविंद पासवान की कविताओं में दलित अनुभूति// आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
"सुप्रभात "
Yogendra Chaturwedi
मुझ को किसी एक विषय में मत बांधिए
मुझ को किसी एक विषय में मत बांधिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
तुम कहते हो की हर मर्द को अपनी पसंद की औरत को खोना ही पड़ता है चाहे तीनों लोक के कृष्ण ही क्यों ना हो
तुम कहते हो की हर मर्द को अपनी पसंद की औरत को खोना ही पड़ता है चाहे तीनों लोक के कृष्ण ही क्यों ना हो
$úDhÁ MãÚ₹Yá
ज़रूरी तो नहीं
ज़रूरी तो नहीं
Surinder blackpen
'उड़ान'
'उड़ान'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
प्यारी तितली
प्यारी तितली
Dr Archana Gupta
शीत की शब में .....
शीत की शब में .....
sushil sarna
जमाना तो डरता है, डराता है।
जमाना तो डरता है, डराता है।
Priya princess panwar
कोई भी नही भूख का मज़हब यहाँ होता है
कोई भी नही भूख का मज़हब यहाँ होता है
Mahendra Narayan
अपने दिल से
अपने दिल से
Dr fauzia Naseem shad
हिन्दी ग़ज़लः सवाल सार्थकता का? +रमेशराज
हिन्दी ग़ज़लः सवाल सार्थकता का? +रमेशराज
कवि रमेशराज
"खुशी मत मना"
Dr. Kishan tandon kranti
2832. *पूर्णिका*
2832. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
काश वो होते मेरे अंगना में
काश वो होते मेरे अंगना में
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
शाकाहार स्वस्थ आहार
शाकाहार स्वस्थ आहार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
निंदा और निंदक,प्रशंसा और प्रशंसक से कई गुना बेहतर है क्योंक
निंदा और निंदक,प्रशंसा और प्रशंसक से कई गुना बेहतर है क्योंक
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
बदलते दौर में......
बदलते दौर में......
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
आज इस सूने हृदय में....
आज इस सूने हृदय में....
डॉ.सीमा अग्रवाल
चंद अशआर
चंद अशआर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
Rj Anand Prajapati
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
आशा की किरण
आशा की किरण
Nanki Patre
*य से यज्ञ (बाल कविता)*
*य से यज्ञ (बाल कविता)*
Ravi Prakash
घास को बिछौना बना कर तो देखो
घास को बिछौना बना कर तो देखो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
■ आज का क़तआ (मुक्तक)
■ आज का क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
मैं पुरखों के घर आया था
मैं पुरखों के घर आया था
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...