Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2024 · 1 min read

चाबी घर की हो या दिल की

चाबी घर की हो या दिल की
दीजिए उसी को
जिस पर पूरा भरोसा हो

101 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वह बचपन के दिन
वह बचपन के दिन
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हमारी मंजिल को एक अच्छा सा ख्वाब देंगे हम!
हमारी मंजिल को एक अच्छा सा ख्वाब देंगे हम!
Diwakar Mahto
बाबर के वंशज
बाबर के वंशज
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
जो भी मिलता है उससे हम
जो भी मिलता है उससे हम
Shweta Soni
चंद्रयान 3 ‘आओ मिलकर जश्न मनाएं’
चंद्रयान 3 ‘आओ मिलकर जश्न मनाएं’
Author Dr. Neeru Mohan
दर-बदर की ठोकरें जिन्को दिखातीं राह हैं
दर-बदर की ठोकरें जिन्को दिखातीं राह हैं
Manoj Mahato
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
वक्त को कौन बांध सका है
वक्त को कौन बांध सका है
Surinder blackpen
पुण्य स्मरण: 18 जून 2008 को मुरादाबाद में आयोजित पारिवारिक समारोह में पढ़ी गईं दो
पुण्य स्मरण: 18 जून 2008 को मुरादाबाद में आयोजित पारिवारिक समारोह में पढ़ी गईं दो
Ravi Prakash
3358.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3358.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
भूल भूल हुए बैचैन
भूल भूल हुए बैचैन
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
■ कड़ा सवाल ■
■ कड़ा सवाल ■
*प्रणय प्रभात*
*****रामलला*****
*****रामलला*****
Kavita Chouhan
वट सावित्री
वट सावित्री
लक्ष्मी सिंह
विनय
विनय
Kanchan Khanna
"फासला और फैसला"
Dr. Kishan tandon kranti
खुद से मिल
खुद से मिल
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
बरखा
बरखा
Dr. Seema Varma
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Shyam Sundar Subramanian
अगर पुरुष नारी में अपनी प्रेमिका न ढूंढे और उसके शरीर की चाह
अगर पुरुष नारी में अपनी प्रेमिका न ढूंढे और उसके शरीर की चाह
Ranjeet kumar patre
वादा करती हूं मै भी साथ रहने का
वादा करती हूं मै भी साथ रहने का
Ram Krishan Rastogi
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
बहुत बरस गुज़रने के बाद
बहुत बरस गुज़रने के बाद
शिव प्रताप लोधी
हां मैं पागल हूं दोस्तों
हां मैं पागल हूं दोस्तों
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सांत्वना
सांत्वना
भरत कुमार सोलंकी
बढ़ी शय है मुहब्बत
बढ़ी शय है मुहब्बत
shabina. Naaz
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
काव्य का आस्वादन
काव्य का आस्वादन
कवि रमेशराज
भुलक्कड़ मामा
भुलक्कड़ मामा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...