Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Dec 2023 · 1 min read

* चान्दनी में मन *

** गीतिका **
~~
हृदय में स्नेह की मृदु भावनाओं को जगाता है।
निशा है चान्दनी में मन हमेशा डूब जाता है।

बिखरती चन्द्रिका भू-पर रजत आभा लिए जब भी।
बहुत यह दृश्य नैसर्गिक सभी के मन सुहाता है।

निराली शान तारों से भरे सुन्दर गगन की है।
निशा को खूब आकर्षण भरे क्रम में सजाता है।

हमेशा प्रेमियों का मन चुराती चान्दनी रातें।
यहां निश्छल हृदय का चैन जब कोई चुराता है।

सभी को रास आती हैं धवल सी चान्दनी रातें।
तमस के आवरण को चान्द आकर जब उठाता है।

रजत किरणें बिखरती ज्योत्सना की हर धरातल पर।
यही क्रम खूबसूरत दृश्य मनभावन बनाता है।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, २६/१२/२०२३

73 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
हक़ीक़त
हक़ीक़त
Shyam Sundar Subramanian
Hard work is most important in your dream way
Hard work is most important in your dream way
Neeleshkumar Gupt
मेरी बेटी मेरा अभिमान
मेरी बेटी मेरा अभिमान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
self doubt.
self doubt.
पूर्वार्थ
#अज्ञानी_की_कलम
#अज्ञानी_की_कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
एक मुलाकात अजनबी से
एक मुलाकात अजनबी से
Mahender Singh
💐अज्ञात के प्रति-81💐
💐अज्ञात के प्रति-81💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"मैं तुम्हारा रहा"
Lohit Tamta
■ सारा खेल कमाई का...
■ सारा खेल कमाई का...
*Author प्रणय प्रभात*
प्रार्थना (मधुमालती छन्द)
प्रार्थना (मधुमालती छन्द)
नाथ सोनांचली
Just like a lonely star, I am staying here visible but far.
Just like a lonely star, I am staying here visible but far.
Manisha Manjari
मां नही भूलती
मां नही भूलती
Anjana banda
-- अजीत हूँ --
-- अजीत हूँ --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
“ जियो और जीने दो ”
“ जियो और जीने दो ”
DrLakshman Jha Parimal
श्रद्धावान बनें हम लेकिन, रहें अंधश्रद्धा से दूर।
श्रद्धावान बनें हम लेकिन, रहें अंधश्रद्धा से दूर।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
नवरात्रि-गीत /
नवरात्रि-गीत /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
चाँद सी चंचल चेहरा🙏
चाँद सी चंचल चेहरा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
रमेशराज की विरोधरस की मुक्तछंद कविताएँ—2.
रमेशराज की विरोधरस की मुक्तछंद कविताएँ—2.
कवि रमेशराज
आत्मघाती हमला
आत्मघाती हमला
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
सन् २०२३ में,जो घटनाएं पहली बार हुईं
सन् २०२३ में,जो घटनाएं पहली बार हुईं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दलित के भगवान
दलित के भगवान
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
दिल के दरवाजे भेड़ कर देखो - संदीप ठाकुर
दिल के दरवाजे भेड़ कर देखो - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
वो शिकायत भी मुझसे करता है
वो शिकायत भी मुझसे करता है
Shweta Soni
यूं साया बनके चलते दिनों रात कृष्ण है
यूं साया बनके चलते दिनों रात कृष्ण है
Ajad Mandori
बगावत का बिगुल
बगावत का बिगुल
Shekhar Chandra Mitra
मेरे पास, तेरे हर सवाल का जवाब है
मेरे पास, तेरे हर सवाल का जवाब है
Bhupendra Rawat
महाभारत एक अलग पहलू
महाभारत एक अलग पहलू
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
ज़िंदगी को अगर स्मूथली चलाना हो तो चु...या...पा में संलिप्त
ज़िंदगी को अगर स्मूथली चलाना हो तो चु...या...पा में संलिप्त
Dr MusafiR BaithA
शुरुआत जरूरी है
शुरुआत जरूरी है
Shyam Pandey
होने को अब जीवन की है शाम।
होने को अब जीवन की है शाम।
Anil Mishra Prahari
Loading...