Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2023 · 1 min read

चांद जैसे बादलों में छुपता है तुम भी वैसे ही गुम हो

चांद जैसे बादलों में छुपता है तुम भी वैसे ही गुम हो
आज पूनम है पूरे चांद की तरह तुम भी नजर आ जाओ

370 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ६)
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ६)
Kanchan Khanna
महावीर उत्तरांचली आप सभी के प्रिय कवि
महावीर उत्तरांचली आप सभी के प्रिय कवि
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Save water ! Without water !
Save water ! Without water !
Buddha Prakash
देखें हम भी उस सूरत को
देखें हम भी उस सूरत को
gurudeenverma198
अभिव्यक्ति की सामरिकता - भाग 05 Desert Fellow Rakesh Yadav
अभिव्यक्ति की सामरिकता - भाग 05 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
*सुकुं का झरना*... ( 19 of 25 )
*सुकुं का झरना*... ( 19 of 25 )
Kshma Urmila
कोई ख़्वाब है
कोई ख़्वाब है
Dr fauzia Naseem shad
मां
मां
Sûrëkhâ
छाई रे घटा घनघोर,सखी री पावस में चहुंओर
छाई रे घटा घनघोर,सखी री पावस में चहुंओर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"जन्मदिन"
Dr. Kishan tandon kranti
3063.*पूर्णिका*
3063.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कभी मोहब्बत के लिए मरता नहीं था
कभी मोहब्बत के लिए मरता नहीं था
Rituraj shivem verma
एक ज़माना था .....
एक ज़माना था .....
Nitesh Shah
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
नर नारी संवाद
नर नारी संवाद
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हाथ में उसके हाथ को लेना ऐसे था
हाथ में उसके हाथ को लेना ऐसे था
Shweta Soni
कैसे चला जाऊ तुम्हारे रास्ते से ऐ जिंदगी
कैसे चला जाऊ तुम्हारे रास्ते से ऐ जिंदगी
देवराज यादव
*भोग कर सब स्वर्ग-सुख, आना धरा पर फिर पड़ा (गीत)*
*भोग कर सब स्वर्ग-सुख, आना धरा पर फिर पड़ा (गीत)*
Ravi Prakash
इतना रोई कलम
इतना रोई कलम
Dhirendra Singh
LOVE
LOVE
SURYA PRAKASH SHARMA
मार्मिक फोटो
मार्मिक फोटो
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
घर पर घर
घर पर घर
Surinder blackpen
उसका-मेरा साथ सुहाना....
उसका-मेरा साथ सुहाना....
डॉ.सीमा अग्रवाल
घमंड
घमंड
Ranjeet kumar patre
एक दिवाली ऐसी भी।
एक दिवाली ऐसी भी।
Manisha Manjari
अब कहाँ मौत से मैं डरता हूँ
अब कहाँ मौत से मैं डरता हूँ
प्रीतम श्रावस्तवी
वार
वार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
भीम षोडशी
भीम षोडशी
SHAILESH MOHAN
विलोमात्मक प्रभाव~
विलोमात्मक प्रभाव~
दिनेश एल० "जैहिंद"
Loading...