Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Mar 2024 · 1 min read

* चांद के उस पार *

** मुक्तक **
~~
कल्पनाओं में नये कुछ रंग भरने चाहिए।
मेघ नभ पर भी छितरते कुछ उमड़ने चाहिए।
चांद के उस पार जाने की तमन्ना को लिए।
प्यार के पंछी प्रवासी भी निकलने चाहिए।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
शाम ढलती जा रही है लालिमा लेकर नयी।
चन्द्रमा पर श्वेत आभा दिख रही आभामयी।
लग रहे ज्यों स्पर्श करते चोंच से शशि को सहज।
पाखियों सँग है बनी दृश्यावली महिमामयी।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
चाहते हैं खूब मन में खिलखिलाती जा रही।
स्नेह की कश्ती समुंदर में बहाती जा रही।
डूबते ही जा रहे मन भावनाओं में गहन।
प्रेम रस में एक दूजे को मिलाती जा रही।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य

1 Like · 1 Comment · 40 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
इश्क़ का दामन थामे
इश्क़ का दामन थामे
Surinder blackpen
यारों की महफ़िल सजे ज़माना हो गया,
यारों की महफ़िल सजे ज़माना हो गया,
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
24, *ईक्सवी- सदी*
24, *ईक्सवी- सदी*
Dr Shweta sood
आकाश के सितारों के साथ हैं
आकाश के सितारों के साथ हैं
Neeraj Agarwal
रिश्ते
रिश्ते
Mangilal 713
Dil toot jaayein chalega
Dil toot jaayein chalega
Prathmesh Yelne
2522.पूर्णिका
2522.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
वो झील-सी हैं, तो चट्टान-सा हूँ मैं
वो झील-सी हैं, तो चट्टान-सा हूँ मैं
The_dk_poetry
ख़ाइफ़ है क्यों फ़स्ले बहारांँ, मैं भी सोचूँ तू भी सोच
ख़ाइफ़ है क्यों फ़स्ले बहारांँ, मैं भी सोचूँ तू भी सोच
Sarfaraz Ahmed Aasee
तेरे संग मैंने
तेरे संग मैंने
लक्ष्मी सिंह
"कहानी मेरी अभी ख़त्म नही
पूर्वार्थ
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
■ प्रभात चिंतन...
■ प्रभात चिंतन...
*Author प्रणय प्रभात*
नया विज्ञापन
नया विज्ञापन
Otteri Selvakumar
खत
खत
Punam Pande
"नव प्रवर्तन"
Dr. Kishan tandon kranti
कोरोना काल
कोरोना काल
Sandeep Pande
व्यक्ति और विचार में यदि चुनना पड़े तो विचार चुनिए। पर यदि व
व्यक्ति और विचार में यदि चुनना पड़े तो विचार चुनिए। पर यदि व
Sanjay ' शून्य'
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हिंदू धर्म आ हिंदू विरोध।
हिंदू धर्म आ हिंदू विरोध।
Acharya Rama Nand Mandal
एक दोहा...
एक दोहा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
Satya Prakash Sharma
उम्र बढती रही दोस्त कम होते रहे।
उम्र बढती रही दोस्त कम होते रहे।
Sonu sugandh
*ये झरने गीत गाते हैं, सुनो संगीत पानी का (मुक्तक)*
*ये झरने गीत गाते हैं, सुनो संगीत पानी का (मुक्तक)*
Ravi Prakash
नौकरी
नौकरी
Aman Sinha
मैं आखिर उदास क्यों होउँ
मैं आखिर उदास क्यों होउँ
DrLakshman Jha Parimal
धन जमा करने की प्रवृत्ति मनुष्य को सदैव असंतुष्ट ही रखता है।
धन जमा करने की प्रवृत्ति मनुष्य को सदैव असंतुष्ट ही रखता है।
Paras Nath Jha
प्यार है रब की इनायत या इबादत क्या है।
प्यार है रब की इनायत या इबादत क्या है।
सत्य कुमार प्रेमी
जिंदगी में संतुलन खुद की कमियों को समझने से बना रहता है,
जिंदगी में संतुलन खुद की कमियों को समझने से बना रहता है,
Seema gupta,Alwar
Har Ghar Tiranga : Har Man Tiranga
Har Ghar Tiranga : Har Man Tiranga
Tushar Jagawat
Loading...