Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jul 2016 · 1 min read

चांद ईद का बना दिल जिसे नादानी कर गया

उसका इश्क़ मेरा हाल रमदानी कर गया
चांद ईद का बना दिल जिसे नादानी कर गया
आसानी से ले लेने दी , उसे अपनी जगह जिसने
वो खुदा भी उसपे कैसे मेहरबानी कर गया

366 Views
You may also like:
हम तमाशा थे ज़िन्दगी के लिए
Dr fauzia Naseem shad
जुबां खामोश रहती है
Anamika Singh
कण कण में शंकर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दिशा
Saraswati Bajpai
दया के तुम हो सागर पापा।
Taj Mohammad
HAPPY BIRTHDAY SHIVANS
★ IPS KAMAL THAKUR ★
हिन्दू मुस्लिम समन्वय के प्रतीक कबीर बाबा
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
🚩मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
गुरूर का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
मुबारक हो जन्मदिवस
मानक लाल"मनु"
पैर नहीं चलते थे भाई के, पर बल्ला बाकमाल चलता...
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
बाबू जी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
आ तुझको तुझ से चुरा लू
Ram Krishan Rastogi
✍️साबिक़-दस्तूर✍️
'अशांत' शेखर
ग़रीब की दिवाली!
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Writing Challenge- अंतरिक्ष (Space)
Sahityapedia
भटकता चाँद
Alok Saxena
"तेरे गलियों के चक्कर, काटने का मज़ा!!"
पाण्डेय चिदानन्द
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सच होता है कड़वा
gurudeenverma198
हो गए हम बे सफ़र
Shivkumar Bilagrami
" रुढ़िवादिता की सोच"
Dr Meenu Poonia
विश्व मानसिक दिवस
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
एक ज़िंदा मुल्क
Shekhar Chandra Mitra
जीवन
Mahendra Narayan
*जो दसवीं फेल हैं धनवान (मुक्तक)*
Ravi Prakash
दोहे एकादश ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
क्षणिकायें-पर्यावरण चिंतन
राजेश 'ललित'
रूठ गई हैं बरखा रानी
Dr Archana Gupta
Loading...