Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Apr 2023 · 1 min read

चांदनी रात

कोई तप कर सोना बनता है,
कोई जल कर प्रकाश देता है
हीरे को किरण का प्रकाश
खुद की धूरी पर घूमते घूमते
धरती के चक्कर लगाते हुए.
सूरज से प्रकाशमान हो जाना
चांदनी रात एक पखवाड़े
फिर वही अमावस्या की रात,
शिलाओं का निर्यास शिलाजीत
चांदनी रात में उठते जल-प्रपात,
समुद्र में उठती गगनचुंबी लहरें,
गुरुत्वाकर्षण बल है बलाबल,,
शीतल आभास एक चांदनी रात,

Language: Hindi
242 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mahender Singh
View all
You may also like:
कितने छेड़े और  कितने सताए  गए है हम
कितने छेड़े और कितने सताए गए है हम
Yogini kajol Pathak
फितरत में वफा हो तो
फितरत में वफा हो तो
shabina. Naaz
कर्मवीर भारत...
कर्मवीर भारत...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"मैं तेरी शरण में आई हूँ"
Shashi kala vyas
*युद्ध लड़ सको तो रण में, कुछ शौर्य दिखाने आ जाना (मुक्तक)*
*युद्ध लड़ सको तो रण में, कुछ शौर्य दिखाने आ जाना (मुक्तक)*
Ravi Prakash
शाम ढलते ही
शाम ढलते ही
Davina Amar Thakral
दोस्ती को परखे, अपने प्यार को समजे।
दोस्ती को परखे, अपने प्यार को समजे।
Anil chobisa
चॉंद और सूरज
चॉंद और सूरज
Ravi Ghayal
दर्द व्यक्ति को कमजोर नहीं बल्कि मजबूत बनाती है और साथ ही मे
दर्द व्यक्ति को कमजोर नहीं बल्कि मजबूत बनाती है और साथ ही मे
Rj Anand Prajapati
धर्म या धन्धा ?
धर्म या धन्धा ?
SURYA PRAKASH SHARMA
मैंने आईने में जब भी ख़ुद को निहारा है
मैंने आईने में जब भी ख़ुद को निहारा है
Bhupendra Rawat
.
.
Ms.Ankit Halke jha
अल्फाज़ ए ताज भाग-11
अल्फाज़ ए ताज भाग-11
Taj Mohammad
हर पिता को अपनी बेटी को,
हर पिता को अपनी बेटी को,
Shutisha Rajput
■ आज की परिभाषा याद कर लें। प्रतियोगी परीक्षा में काम आएगी।
■ आज की परिभाषा याद कर लें। प्रतियोगी परीक्षा में काम आएगी।
*Author प्रणय प्रभात*
गांव अच्छे हैं।
गांव अच्छे हैं।
Amrit Lal
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
Ram Krishan Rastogi
॥ जीवन यात्रा मे आप किस गति से चल रहे है इसका अपना  महत्व  ह
॥ जीवन यात्रा मे आप किस गति से चल रहे है इसका अपना महत्व ह
Satya Prakash Sharma
चाय की चुस्की संग
चाय की चुस्की संग
Surinder blackpen
*मोर पंख* ( 12 of 25 )
*मोर पंख* ( 12 of 25 )
Kshma Urmila
बरसात
बरसात
लक्ष्मी सिंह
@ranjeetkrshukla
@ranjeetkrshukla
Ranjeet Kumar Shukla
मुझे अपनी दुल्हन तुम्हें नहीं बनाना है
मुझे अपनी दुल्हन तुम्हें नहीं बनाना है
gurudeenverma198
"माफ करके"
Dr. Kishan tandon kranti
International Chess Day
International Chess Day
Tushar Jagawat
रिश्ते से बाहर निकले हैं - संदीप ठाकुर
रिश्ते से बाहर निकले हैं - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
सदैव खुश रहने की आदत
सदैव खुश रहने की आदत
Paras Nath Jha
महफ़िल जो आए
महफ़िल जो आए
हिमांशु Kulshrestha
कुंडलिया छंद विधान ( कुंडलिया छंद में ही )
कुंडलिया छंद विधान ( कुंडलिया छंद में ही )
Subhash Singhai
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...