Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2016 · 1 min read

*चाँद को देखकर*

चाँद को देखकर चाँद कहने लगा
ईद की ही तरह अब तू’ मिलने लगा
देख लूँ आज जी भर उसे प्यार से
जोर से दिल हमारा धड़कने लगा
रात ढलने लगी फूल मुरझा गये
यार मेरा जुदा जब यूँ होने लगा
तोड़कर दिल हमारा गया बेवफा
टूटकर काँच सा ये बिखरने लगा
जिन्दगी में कई साज होते हुए
बंदगी का नया साज सजने लगा
*धर्मेन्द्र अरोड़ा*

226 Views
You may also like:
अक्षय तृतीया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बॉलीवुड का अंधा गोरी प्रेम और भारतीय समाज पर इसके...
Harinarayan Tanha
ग़ज़ल
Anis Shah
🙏मॉं कालरात्रि🙏
पंकज कुमार कर्ण
माटी के पुतले
AMRESH KUMAR VERMA
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
आख़िरी बयान
Shekhar Chandra Mitra
मुक्तक(मंच)
Dr Archana Gupta
ज़िंदगी देख मेरे हाथों में कुछ नहीं आया
Dr fauzia Naseem shad
हंसगति छंद , विधान और विधाएं
Subhash Singhai
मित्र
लक्ष्मी सिंह
Colourful Balloons
Buddha Prakash
हमारे पास करने को दो ही काम है।
Taj Mohammad
बेटी की मायका यात्रा
Ashwani Kumar Jaiswal
अब कितना कुछ और सहा जाए-
डी. के. निवातिया
✍️आईने लापता मिले✍️
'अशांत' शेखर
माता प्राकट्य
Dr. Sunita Singh
मैंने देखा हैं मौसम को बदलतें हुए
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
*महाकाल चालीसा*
Nishant prakhar
कहानी *"ममता"* पार्ट-3 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
*बंदूकों-तलवारों से (गीत)*
Ravi Prakash
आस्तीक भाग-दो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
याद आयेंगे तुम्हे हम,एक चुम्बन की तरह
Ram Krishan Rastogi
माँ अन्नपूर्णा
Shashi kala vyas
लाल टोपी
मनोज कर्ण
!! मुसाफिर !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
जिंदगी का आखिरी सफर
ओनिका सेतिया 'अनु '
💐कह भी डालो यार 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
" बिल्ली "
Dr Meenu Poonia
Loading...