Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Nov 2022 · 1 min read

चाँदनी में नहाती रही रात भर

चाँदनी में नहाती रही रात भर
तारों में घर बनाती रही रात भर

नींद के गाँव में प्यार की छाँव में
ख़्वाब अपने सजाती रही रात भर

चाँद की रोशनी के तसव्वुर में मैं
दीप सी टिमटिमाती रही रात भर

याद करके बदलती रही करवटें
आँख भी छलछलाती रही रात भर

रात रानी की मानिन्द मजबूर थी
बस महक ही लुटाती रही रात पर

वक़्त रहता नहीं है सदा एक सा
दिल को बस यूँ मनाती रही रात भर

नींद आई नहीं फिर भी मैं ‘अर्चना’
लोरियाँ गुनगुनाती रही रात भर

डॉ अर्चना गुप्ता

3 Likes · 1 Comment · 162 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
स्वयं अपने चित्रकार बनो
स्वयं अपने चित्रकार बनो
Ritu Asooja
कर रहे हैं वंदना
कर रहे हैं वंदना
surenderpal vaidya
वे वादे, जो दो दशक पुराने हैं
वे वादे, जो दो दशक पुराने हैं
Mahender Singh
चिराग़ ए अलादीन
चिराग़ ए अलादीन
Sandeep Pande
जीवन का मुस्कान
जीवन का मुस्कान
Awadhesh Kumar Singh
कृष्ण भक्ति
कृष्ण भक्ति
लक्ष्मी सिंह
ना सातवें आसमान तक
ना सातवें आसमान तक
Vivek Mishra
👰🏾‍♀कजरेली👰🏾‍♀
👰🏾‍♀कजरेली👰🏾‍♀
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
भावक की नीयत भी किसी रचना को छोटी बड़ी तो करती ही है, कविता
भावक की नीयत भी किसी रचना को छोटी बड़ी तो करती ही है, कविता
Dr MusafiR BaithA
मेरी जान ही मेरी जान ले रही है
मेरी जान ही मेरी जान ले रही है
Hitanshu singh
एक सपना देखा था
एक सपना देखा था
Vansh Agarwal
शहर - दीपक नीलपदम्
शहर - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
"पतझड़"
Dr. Kishan tandon kranti
सुख के क्षणों में हम दिल खोलकर हँस लेते हैं, लोगों से जी भरक
सुख के क्षणों में हम दिल खोलकर हँस लेते हैं, लोगों से जी भरक
ruby kumari
ये जाति और ये मजहब दुकान थोड़ी है।
ये जाति और ये मजहब दुकान थोड़ी है।
सत्य कुमार प्रेमी
रमेशराज के दस हाइकु गीत
रमेशराज के दस हाइकु गीत
कवि रमेशराज
कैसा अजीब है
कैसा अजीब है
हिमांशु Kulshrestha
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
Vishal babu (vishu)
*फल (बाल कविता)*
*फल (बाल कविता)*
Ravi Prakash
ज़िंदगी में अपना पराया
ज़िंदगी में अपना पराया
नेताम आर सी
खुद के वजूद की
खुद के वजूद की
Dr fauzia Naseem shad
भैतिक सुखों का आनन्द लीजिए,
भैतिक सुखों का आनन्द लीजिए,
Satish Srijan
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
वासना और करुणा
वासना और करुणा
मनोज कर्ण
■ साल चुनावी, हाल तनावी।।
■ साल चुनावी, हाल तनावी।।
*Author प्रणय प्रभात*
शिखर के शीर्ष पर
शिखर के शीर्ष पर
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
तू भी धक्के खा, हे मुसाफिर ! ,
तू भी धक्के खा, हे मुसाफिर ! ,
Buddha Prakash
हर क़दम पर सराब है सचमुच
हर क़दम पर सराब है सचमुच
Sarfaraz Ahmed Aasee
*आत्म-मंथन*
*आत्म-मंथन*
Dr. Priya Gupta
Loading...