Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Sep 2023 · 1 min read

चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।

चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
और उसे कोई फर्क नहीं पड़ता ।
पर जिसे तुम मस्त समझते हो,
जाकर मिलना कभी उससे,
मौका अगर मिलेगा तो,
पता चलेगा तुम्हें,
उसे भी उतना ही कष्ट है,
जितना तुम्हें कष्ट है ।।

177 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#दोहा-
#दोहा-
*Author प्रणय प्रभात*
सजदे में झुकते तो हैं सर आज भी, पर मन्नतें मांगीं नहीं जातीं।
सजदे में झुकते तो हैं सर आज भी, पर मन्नतें मांगीं नहीं जातीं।
Manisha Manjari
कोई गुरबत
कोई गुरबत
Dr fauzia Naseem shad
किसी के साथ दोस्ती करना और दोस्ती को निभाना, किसी से मुस्कुर
किसी के साथ दोस्ती करना और दोस्ती को निभाना, किसी से मुस्कुर
Anand Kumar
24/229. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/229. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीवन के गीत
जीवन के गीत
Harish Chandra Pande
अभी गहन है रात.......
अभी गहन है रात.......
Parvat Singh Rajput
तुम भी पत्थर
तुम भी पत्थर
shabina. Naaz
बाल मन
बाल मन
लक्ष्मी सिंह
"सुखी हुई पत्ती"
Pushpraj Anant
"संवाद "
DrLakshman Jha Parimal
*वही निर्धन कहाता है, मनुज जो स्वास्थ्य खोता है (मुक्तक)*
*वही निर्धन कहाता है, मनुज जो स्वास्थ्य खोता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
सारा सिस्टम गलत है
सारा सिस्टम गलत है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
भाव जिसमें मेरे वो ग़ज़ल आप हैं
भाव जिसमें मेरे वो ग़ज़ल आप हैं
Dr Archana Gupta
दो दिन की जिंदगी है अपना बना ले कोई।
दो दिन की जिंदगी है अपना बना ले कोई।
Phool gufran
नया दिन
नया दिन
Vandna Thakur
~~🪆 *कोहबर* 🪆~~
~~🪆 *कोहबर* 🪆~~
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
सफर पर निकले थे जो मंजिल से भटक गए
सफर पर निकले थे जो मंजिल से भटक गए
डी. के. निवातिया
मेरा अभिमान
मेरा अभिमान
Aman Sinha
पग न अब पीछे मुड़ेंगे...
पग न अब पीछे मुड़ेंगे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
दौड़ते ही जा रहे सब हर तरफ
दौड़ते ही जा रहे सब हर तरफ
Dhirendra Singh
कभी-कभी वक़्त की करवट आपको अचंभित कर जाती है.......चाहे उस क
कभी-कभी वक़्त की करवट आपको अचंभित कर जाती है.......चाहे उस क
Seema Verma
फिर से आयेंगे
फिर से आयेंगे
प्रेमदास वसु सुरेखा
मैं स्वयं हूं..👇
मैं स्वयं हूं..👇
Shubham Pandey (S P)
इस नदी की जवानी गिरवी है
इस नदी की जवानी गिरवी है
Sandeep Thakur
महादेव
महादेव
C.K. Soni
जिसके ना बोलने पर और थोड़ा सा नाराज़ होने पर तुम्हारी आँख से
जिसके ना बोलने पर और थोड़ा सा नाराज़ होने पर तुम्हारी आँख से
Vishal babu (vishu)
दो शे' र
दो शे' र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
हम फर्श पर गुमान करते,
हम फर्श पर गुमान करते,
Neeraj Agarwal
कैसे भूल सकता हूँ मैं वह
कैसे भूल सकता हूँ मैं वह
gurudeenverma198
Loading...