Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2023 · 1 min read

चलो मतदान कर आएँ, निभाएँ फर्ज हम अपना।

चलो मतदान कर आएँ, निभाएँ फर्ज हम अपना।
मनाएँ पर्व सब मिलकर, उतारें कर्ज हम अपना।
मिले जनमत यथोचित तो, कुशल नेतृत्व पाएँ हम,
सजग सरकार चुनने में, करें मत दर्ज हम अपना।

© सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद

3 Likes · 287 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
विश्वास🙏
विश्वास🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*चलो नई जिंदगी की शुरुआत करते हैं*.....
*चलो नई जिंदगी की शुरुआत करते हैं*.....
Harminder Kaur
ਪਰਦੇਸ
ਪਰਦੇਸ
Surinder blackpen
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....!
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....!
Deepak Baweja
दिल के कागज़ पर हमेशा ध्यान से लिखिए।
दिल के कागज़ पर हमेशा ध्यान से लिखिए।
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हे राम ।
हे राम ।
Anil Mishra Prahari
मंदिर की नींव रखी, मुखिया अयोध्या धाम।
मंदिर की नींव रखी, मुखिया अयोध्या धाम।
विजय कुमार नामदेव
तुझे पन्नों में उतार कर
तुझे पन्नों में उतार कर
Seema gupta,Alwar
मूक संवेदना
मूक संवेदना
Buddha Prakash
पिता
पिता
Mamta Rani
मोहब्बत अधूरी होती है मगर ज़रूरी होती है
मोहब्बत अधूरी होती है मगर ज़रूरी होती है
Monika Verma
मजदूर
मजदूर
Preeti Sharma Aseem
भाव  पौध  जब मन में उपजे,  शब्द पिटारा  मिल जाए।
भाव पौध जब मन में उपजे, शब्द पिटारा मिल जाए।
शिल्पी सिंह बघेल
दिवस नहीं मनाये जाते हैं...!!!
दिवस नहीं मनाये जाते हैं...!!!
Kanchan Khanna
"कवि तो वही"
Dr. Kishan tandon kranti
ये जीवन जीने का मूल मंत्र कभी जोड़ना कभी घटाना ,कभी गुणा भाग
ये जीवन जीने का मूल मंत्र कभी जोड़ना कभी घटाना ,कभी गुणा भाग
Shashi kala vyas
अवधी स्वागत गीत
अवधी स्वागत गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
गौर किया जब तक
गौर किया जब तक
Koमल कुmari
कहती गौरैया
कहती गौरैया
Dr.Pratibha Prakash
अब छोड़ दिया है हमने तो
अब छोड़ दिया है हमने तो
gurudeenverma198
इंसान
इंसान
Vandna thakur
महोब्बत करो तो सावले रंग से करना गुरु
महोब्बत करो तो सावले रंग से करना गुरु
शेखर सिंह
देशभक्त मातृभक्त पितृभक्त गुरुभक्त चरित्रवान विद्वान बुद्धिम
देशभक्त मातृभक्त पितृभक्त गुरुभक्त चरित्रवान विद्वान बुद्धिम
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
हीर मात्रिक छंद
हीर मात्रिक छंद
Subhash Singhai
ता थैया थैया थैया थैया,
ता थैया थैया थैया थैया,
Satish Srijan
आईना भी तो सच
आईना भी तो सच
Dr fauzia Naseem shad
सँविधान
सँविधान
Bodhisatva kastooriya
पूछी मैंने साँझ से,
पूछी मैंने साँझ से,
sushil sarna
नम आंखे बचपन खोए
नम आंखे बचपन खोए
Neeraj Mishra " नीर "
Loading...