Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

चलो♥️

“चलो,
इस भागदौड़ भरी माहौल का,
थोड़ा-सा लुत्फ़ उठाया जाए।
इस भीड़ में खोकर,
अपने ग़म को भुलाया जाए।”

– सृष्टि बंसल

66 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फायदे का सौदा
फायदे का सौदा
ओनिका सेतिया 'अनु '
दोहे
दोहे "हरियाली तीज"
Vaishali Rastogi
श्रमिक दिवस
श्रमिक दिवस
Bodhisatva kastooriya
यादों की किताब पर खिताब
यादों की किताब पर खिताब
Mahender Singh
मेरी प्रेरणा
मेरी प्रेरणा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
World Dance Day
World Dance Day
Tushar Jagawat
मंथन
मंथन
Shyam Sundar Subramanian
वो चिट्ठियां
वो चिट्ठियां
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
एक टऽ खरहा एक टऽ मूस
एक टऽ खरहा एक टऽ मूस
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
व्यंग्य आपको सिखलाएगा
व्यंग्य आपको सिखलाएगा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
3030.*पूर्णिका*
3030.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"सियासत बाज"
Dr. Kishan tandon kranti
दीवानों की चाल है
दीवानों की चाल है
Pratibha Pandey
किसी मनपसंद शख्स के लिए अपनी ज़िंदगी निसार करना भी अपनी नई ज
किसी मनपसंद शख्स के लिए अपनी ज़िंदगी निसार करना भी अपनी नई ज
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कुछ लोग रिश्ते में व्यवसायी होते हैं,
कुछ लोग रिश्ते में व्यवसायी होते हैं,
Vindhya Prakash Mishra
'शत्रुता' स्वतः खत्म होने की फितरत रखती है अगर उसे पाला ना ज
'शत्रुता' स्वतः खत्म होने की फितरत रखती है अगर उसे पाला ना ज
satish rathore
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
गुरुकुल भारत
गुरुकुल भारत
Sanjay ' शून्य'
वो परिंदा, है कर रहा देखो
वो परिंदा, है कर रहा देखो
Shweta Soni
दिल आइना
दिल आइना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सच्चे देशभक्त ‘ लाला लाजपत राय ’
सच्चे देशभक्त ‘ लाला लाजपत राय ’
कवि रमेशराज
हम और तुम
हम और तुम
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
हृदय की बेचैनी
हृदय की बेचैनी
Anamika Tiwari 'annpurna '
आंधी
आंधी
Aman Sinha
सफर जब रूहाना होता है
सफर जब रूहाना होता है
Seema gupta,Alwar
बड़ा गहरा रिश्ता है जनाब
बड़ा गहरा रिश्ता है जनाब
शेखर सिंह
The Moon and Me!!
The Moon and Me!!
Rachana
हाल ऐसा की खुद पे तरस आता है
हाल ऐसा की खुद पे तरस आता है
Kumar lalit
दर्द आँखों में आँसू  बनने  की बजाय
दर्द आँखों में आँसू बनने की बजाय
शिव प्रताप लोधी
तू ही मेरी चॉकलेट, तू प्यार मेरा विश्वास। तुमसे ही जज्बात का हर रिश्तो का एहसास। तुझसे है हर आरजू तुझ से सारी आस।। सगीर मेरी वो धरती है मैं उसका एहसास।
तू ही मेरी चॉकलेट, तू प्यार मेरा विश्वास। तुमसे ही जज्बात का हर रिश्तो का एहसास। तुझसे है हर आरजू तुझ से सारी आस।। सगीर मेरी वो धरती है मैं उसका एहसास।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Loading...