Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Oct 2016 · 1 min read

चले भी आओ

प्रिय चले भी आओ
बीत गया सावन भी पिया
बूँद मिली ना जल की पिया
एक ओर मौसम की ज्वाला
दूसरा तेरा मुझसे दूर जाना
आग मे घी सा दहकाता है

सूखे सारे मौसम तेरे जाने से
हलचल मन में याद आने से
सूखी लकड़ी सी पतझड से
दर्द पुकारता तुझे अंग-अंग से
पुरवा हवाएँ बहती रग-रग से
प्रिय चले भी आओ

प्रान प्रिय मेरे तुम रखवाले
आकाश के तारे से तुम प्यारे
मेरी वेदना को तुम सम्हाले
ये विरह दावानल सा जलावे
तन-मन हर-क्षण आग लगावे
प्रिय चले भी आओ

Language: Hindi
73 Likes · 526 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR.MDHU TRIVEDI
View all
You may also like:
चले हैं छोटे बच्चे
चले हैं छोटे बच्चे
कवि दीपक बवेजा
प्रेम
प्रेम
Sushmita Singh
"रियायत"
Dr. Kishan tandon kranti
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
Sanjay ' शून्य'
प्रकृति वर्णन – बच्चों के लिये एक कविता धरा दिवस के लिए
प्रकृति वर्णन – बच्चों के लिये एक कविता धरा दिवस के लिए
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
हम संभलते है, भटकते नहीं
हम संभलते है, भटकते नहीं
Ruchi Dubey
नया साल
नया साल
umesh mehra
चरागो पर मुस्कुराते चहरे
चरागो पर मुस्कुराते चहरे
शेखर सिंह
जब कोई हाथ और साथ दोनों छोड़ देता है
जब कोई हाथ और साथ दोनों छोड़ देता है
Ranjeet kumar patre
विश्व जनसंख्या दिवस
विश्व जनसंख्या दिवस
Paras Nath Jha
सावरकर ने लिखा 1857 की क्रान्ति का इतिहास
सावरकर ने लिखा 1857 की क्रान्ति का इतिहास
कवि रमेशराज
हमें उससे नहीं कोई गिला भी
हमें उससे नहीं कोई गिला भी
Irshad Aatif
बालबीर भारत का
बालबीर भारत का
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आग से जल कर
आग से जल कर
हिमांशु Kulshrestha
खो कर खुद को,
खो कर खुद को,
Pramila sultan
चुप
चुप
Dr.Priya Soni Khare
बारिश की संध्या
बारिश की संध्या
महेश चन्द्र त्रिपाठी
हर दिन रोज नया प्रयास करने से जीवन में नया अंदाज परिणाम लाता
हर दिन रोज नया प्रयास करने से जीवन में नया अंदाज परिणाम लाता
Shashi kala vyas
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
कुछ अपनी कुछ उनकी बातें।
कुछ अपनी कुछ उनकी बातें।
सत्य कुमार प्रेमी
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Rekha Drolia
हर खतरे से पुत्र को,
हर खतरे से पुत्र को,
sushil sarna
मां जब मैं तेरे गर्भ में था, तू मुझसे कितनी बातें करती थी...
मां जब मैं तेरे गर्भ में था, तू मुझसे कितनी बातें करती थी...
Anand Kumar
*मुख्य अतिथि (हास्य व्यंग्य)*
*मुख्य अतिथि (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
* इंसान था रास्तों का मंजिल ने मुसाफिर ही बना डाला...!
* इंसान था रास्तों का मंजिल ने मुसाफिर ही बना डाला...!
Vicky Purohit
If you do things the same way you've always done them, you'l
If you do things the same way you've always done them, you'l
Vipin Singh
जय महादेव
जय महादेव
Shaily
मनहरण घनाक्षरी
मनहरण घनाक्षरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
शीर्षक - सोच और उम्र
शीर्षक - सोच और उम्र
Neeraj Agarwal
2749. *पूर्णिका*
2749. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...