Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Oct 8, 2016 · 1 min read

चले भी आओ

प्रिय चले भी आओ
बीत गया सावन भी पिया
बूँद मिली ना जल की पिया
एक ओर मौसम की ज्वाला
दूसरा तेरा मुझसे दूर जाना
आग मे घी सा दहकाता है

सूखे सारे मौसम तेरे जाने से
हलचल मन में याद आने से
सूखी लकड़ी सी पतझड से
दर्द पुकारता तुझे अंग-अंग से
पुरवा हवाएँ बहती रग-रग से
प्रिय चले भी आओ

प्रान प्रिय मेरे तुम रखवाले
आकाश के तारे से तुम प्यारे
मेरी वेदना को तुम सम्हाले
ये विरह दावानल सा जलावे
तन-मन हर-क्षण आग लगावे
प्रिय चले भी आओ

73 Likes · 355 Views
You may also like:
हमें क़िस्मत ने आज़माया है ।
Dr fauzia Naseem shad
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️कलम ही काफी है ✍️
Vaishnavi Gupta
नए-नए हैं गाँधी / (श्रद्धांजलि नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मिठाई मेहमानों को मुबारक।
Buddha Prakash
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
पैसा बना दे मुझको
Shivkumar Bilagrami
मुझे आज भी तुमसे प्यार है
Ram Krishan Rastogi
देश के नौजवानों
Anamika Singh
✍️लक्ष्य ✍️
Vaishnavi Gupta
अधूरी बातें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Green Trees
Buddha Prakash
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
इस तरह
Dr fauzia Naseem shad
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
इज़हार-ए-इश्क 2
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
कुछ नहीं
Dr fauzia Naseem shad
अपना ख़्याल
Dr fauzia Naseem shad
क्यों भूख से रोटी का रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
गीत
शेख़ जाफ़र खान
जैसे सांसों में ज़िंदगी ही नहीं
Dr fauzia Naseem shad
प्रकृति के चंचल नयन
मनोज कर्ण
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
Loading...