Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jul 2023 · 1 min read

चलता ही रहा

चलता ही रहा
निरंतर, अविरल
राह ए जिंदगी में
लड़ता रहा मुश्किलों से,
अपनों के, ग़ैरों के तानों से.
कभी लड़ा वक़्त से
कभी बहलाया फुसलाया
ख़ुद को, मन को. जीवन को
थक भी गया कभी,
पर हार नहीं मानी,
उठा फ़िर…
चल पड़ा जीवन पथ पर
अकेला, तन्हा उम्र भर
अपने अकेलेपन के साथ
कभी हौसले के साथ
सुस्ता लिया कभी,
और चल पड़ा,उमंग,उत्साह और
नयी ऊर्जा के साथ..
एक नयी मंजिल, एक नयी राह
वही अकेला मैं, ख़ुद के साथ…!!!!

हिमांशु Kulshreshtha

1 Like · 276 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"सुप्रभात "
Yogendra Chaturwedi
तुम अपने खुदा पर यकीन रखते हों
तुम अपने खुदा पर यकीन रखते हों
shabina. Naaz
हर रोज वहीं सब किस्से हैं
हर रोज वहीं सब किस्से हैं
Mahesh Tiwari 'Ayan'
बेनाम जिन्दगी थी फिर क्यूँ नाम दे दिया।
बेनाम जिन्दगी थी फिर क्यूँ नाम दे दिया।
Rajesh Tiwari
तुम पढ़ो नहीं मेरी रचना  मैं गीत कोई लिख जाऊंगा !
तुम पढ़ो नहीं मेरी रचना मैं गीत कोई लिख जाऊंगा !
DrLakshman Jha Parimal
-- ग़दर 2 --
-- ग़दर 2 --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
*पेड़ (पाँच दोहे)*
*पेड़ (पाँच दोहे)*
Ravi Prakash
मेरी माटी मेरा देश 🇮🇳
मेरी माटी मेरा देश 🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
विचारों में मतभेद
विचारों में मतभेद
Dr fauzia Naseem shad
तुम कभी यह चिंता मत करना कि हमारा साथ यहाँ कौन देगा कौन नहीं
तुम कभी यह चिंता मत करना कि हमारा साथ यहाँ कौन देगा कौन नहीं
Dr. Man Mohan Krishna
"दिल का हाल सुने दिल वाला"
Pushpraj Anant
विकलांगता : नहीं एक अभिशाप
विकलांगता : नहीं एक अभिशाप
Dr. Upasana Pandey
सुविचार..
सुविचार..
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
2741. *पूर्णिका*
2741. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उम्र के इस पडाव
उम्र के इस पडाव
Bodhisatva kastooriya
जिंदगी
जिंदगी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ఓ యువత మేలుకో..
ఓ యువత మేలుకో..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
पुलवामा वीरों को नमन
पुलवामा वीरों को नमन
Satish Srijan
ज़िंदगी का खेल है, सोचना समझना
ज़िंदगी का खेल है, सोचना समझना
पूर्वार्थ
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"लोकतंत्र के मंदिर" में
*Author प्रणय प्रभात*
खोखली बुनियाद
खोखली बुनियाद
Shekhar Chandra Mitra
दोहा मुक्तक
दोहा मुक्तक
sushil sarna
आईना हो सामने फिर चेहरा छुपाऊं कैसे,
आईना हो सामने फिर चेहरा छुपाऊं कैसे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
प्रेम और आदर
प्रेम और आदर
ओंकार मिश्र
कृतज्ञ बनें
कृतज्ञ बनें
Sanjay ' शून्य'
बड़ा सुंदर समागम है, अयोध्या की रियासत में।
बड़ा सुंदर समागम है, अयोध्या की रियासत में।
जगदीश शर्मा सहज
💐प्रेम कौतुक-558💐
💐प्रेम कौतुक-558💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
माना अपनी पहुंच नहीं है
माना अपनी पहुंच नहीं है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
Loading...