Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Apr 2023 · 1 min read

*चरण पादुका भरत उठाए (कुछ चौपाइयॉं)*

चरण पादुका भरत उठाए (कुछ चौपाइयॉं)
🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️
1
चरण पादुका भरत उठाए।
अवध राज-सिंहासन लाए।।
खुद को राजा तनिक न माना ।
राम-पादुका सेवक जाना ।।
2
पर्णकुटी में निशिदिन रहते।
राम-राम मन से नित कहते।।
यह थे एक अनोखे राजा।
राज-काज समझे प्रभु-काजा।।
3
कुश की शैया पर थे सोते।
मुनि-से वस्त्र पहन खुश होते ।।
धन्य भरत की यह तप-गाथा।
हुआ उच्च रघुकुल का माथा।।
4
रामराज्य-नायक कहलाए ।
भरत राम से आगे पाए ।।
राजकोष से क्या मनमानी ।
भरत-वृत्ति सबको सिखलानी।।
5
स्वामी नहीं सिर्फ रखवाले ।
भरत पादुका रहे सॅंभाले ।।
राजधर्म अति कठिन सिखाया।
व्यापी नहीं भरत को माया।।
6
भरत-कथा जो जन गाऍंगे।
परम राम का पद पाऍंगे ।।
बसे हृदय सीता प्रभु पाए ।
भरत भक्ति के शीर्ष कहाए।।
—————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

660 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
6
6
Davina Amar Thakral
आंखों की चमक ऐसी, बिजली सी चमकने दो।
आंखों की चमक ऐसी, बिजली सी चमकने दो।
सत्य कुमार प्रेमी
Growth requires vulnerability.
Growth requires vulnerability.
पूर्वार्थ
100 से अधिक हिन्दी पत्र-पत्रिकाओं की पते:-
100 से अधिक हिन्दी पत्र-पत्रिकाओं की पते:-
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
.
.
*प्रणय प्रभात*
कोशिश करना आगे बढ़ना
कोशिश करना आगे बढ़ना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आज वो दौर है जब जिम करने वाला व्यक्ति महंगी कारें खरीद रहा ह
आज वो दौर है जब जिम करने वाला व्यक्ति महंगी कारें खरीद रहा ह
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
ज़बानें हमारी हैं, सदियों पुरानी
ज़बानें हमारी हैं, सदियों पुरानी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हम फर्श पर गुमान करते,
हम फर्श पर गुमान करते,
Neeraj Agarwal
मन तो मन है
मन तो मन है
Pratibha Pandey
स्मृतियों की चिन्दियाँ
स्मृतियों की चिन्दियाँ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
3430⚘ *पूर्णिका* ⚘
3430⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
ग्रंथ
ग्रंथ
Tarkeshwari 'sudhi'
फूल
फूल
Pt. Brajesh Kumar Nayak
धुप मे चलने और जलने का मज़ाक की कुछ अलग है क्योंकि छाव देखते
धुप मे चलने और जलने का मज़ाक की कुछ अलग है क्योंकि छाव देखते
Ranjeet kumar patre
*दादू के पत्र*
*दादू के पत्र*
Ravi Prakash
सुख भी बाँटा है
सुख भी बाँटा है
Shweta Soni
तमगा
तमगा
Bodhisatva kastooriya
वज़्न -- 2122 2122 212 अर्कान - फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन बह्र का नाम - बह्रे रमल मुसद्दस महज़ूफ
वज़्न -- 2122 2122 212 अर्कान - फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन बह्र का नाम - बह्रे रमल मुसद्दस महज़ूफ
Neelam Sharma
मैं अपना जीवन
मैं अपना जीवन
Swami Ganganiya
बेटी
बेटी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
"शोर"
Dr. Kishan tandon kranti
Har Ghar Tiranga : Har Man Tiranga
Har Ghar Tiranga : Har Man Tiranga
Tushar Jagawat
ओवर पजेसिव :समाधान क्या है ?
ओवर पजेसिव :समाधान क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
दोहा
दोहा
sushil sarna
महान कथाकार प्रेमचन्द की प्रगतिशीलता खण्डित थी, ’बड़े घर की
महान कथाकार प्रेमचन्द की प्रगतिशीलता खण्डित थी, ’बड़े घर की
Dr MusafiR BaithA
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
Vishal babu (vishu)
*अहंकार*
*अहंकार*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुहब्बत की दुकान
मुहब्बत की दुकान
Shekhar Chandra Mitra
मुक्कमल कहां हुआ तेरा अफसाना
मुक्कमल कहां हुआ तेरा अफसाना
Seema gupta,Alwar
Loading...