Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Aug 2023 · 2 min read

चयन

चयन
मुख्यमंत्री के चयन के लिए पार्टी के प्रभारी नेताजी ने तीनों प्रमुख दावेदारों की मीटिंग ली। उन्होंने सबसे एक ही सवाल किया, “हम आपको ही मुख्यमंत्री क्यों बनाएँ ?”
पहले दावेदार रमेश जी बोले, “महोदय, मैं लगातार सातवीं बार भारी मतों से विधायक चुन कर आया हूँ। कई बार केबिनेट मंत्री रह चुका हूँ। तीन बार उत्कृष्ट विधायक चुना जा चुका हूँ। मैं मुख्यमंत्री के रूप में कार्य करते हुए अपनी पार्टी और राज्य को नई ऊँचाइयों तक ले जा सकता हूँ।”
दूसरे दावेदार दिनेश जी बोले, “महोदय मैं लगातार दूसरी बार विधायक चुना गया हूँ। पिछले दस सालों से पूरे राज्य में सबसे अधिक धनराशि पार्टी फंड में मैं ही देता रहा हूँ। आगे भी देता रहूँगा। यदि मैं मुख्यमंत्री चुना गया तो पार्टी को कभी भी आर्थिक रूप से कमजोर होने नहीं दूँगा।”
तीसरे दावेदार मुरलीधर जी बोले, “महोदय मैं लगातार चौथी बार चुनकर आया हूँ। दो बार केबिनेट मंत्री भी रह चुका हूँ। जैसा कि आप सबको पता है कि इस बार हमारी पार्टी सबसे बड़े दल के रूप में है, बहुमत के लिए तीन विधायकों की जरूरत है। आज की तिथि में चार निर्दलीय सहित प्रमुख विपक्षी पार्टी के दो विधायक मेरे समर्थन में खड़े हैं, जिन्हें आप कहें तो मैं आधे घंटे के भीतर ही आपके समक्ष उपस्थित करा दूँगा। यदि मुझे मुख्यमंत्री चुना जाता है तो निःसंदेह पार्टी को बहुमत सिद्ध करने के लिए मशक्कत नहीं करनी पड़ेगी।”
प्रभारी नेताजी की अनुशंसानुसार अगले दिन एक शानदार शपथग्रहण समारोह में मुरलीधर जी ने मुख्यमंत्री, दिनेश जी ने उप मुख्यमंत्री और रमेश जी ने विधानसभा अध्यक्ष के पद की शपथ ली।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

131 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरी लाज है तेरे हाथ
मेरी लाज है तेरे हाथ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आजादी का दीवाना था
आजादी का दीवाना था
Vishnu Prasad 'panchotiya'
■ छोटी दीवाली
■ छोटी दीवाली
*Author प्रणय प्रभात*
योग करते जाओ
योग करते जाओ
Sandeep Pande
*नेता जी के घर मिले, नोटों के अंबार (कुंडलिया)*
*नेता जी के घर मिले, नोटों के अंबार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बसंत बहार
बसंत बहार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
छिपकली
छिपकली
Dr Archana Gupta
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
ग़ज़ल/नज़्म - इश्क के रणक्षेत्र में बस उतरे वो ही वीर
ग़ज़ल/नज़्म - इश्क के रणक्षेत्र में बस उतरे वो ही वीर
अनिल कुमार
*कृष्ण की दीवानी*
*कृष्ण की दीवानी*
Shashi kala vyas
लाख दुआएं दूंगा मैं अब टूटे दिल से
लाख दुआएं दूंगा मैं अब टूटे दिल से
Shivkumar Bilagrami
गैस कांड की बरसी
गैस कांड की बरसी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नेह धागों का त्योहार
नेह धागों का त्योहार
Seema gupta,Alwar
संतोष
संतोष
Manju Singh
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
खुद का वजूद मिटाना पड़ता है
खुद का वजूद मिटाना पड़ता है
कवि दीपक बवेजा
💐प्रेम कौतुक-416💐
💐प्रेम कौतुक-416💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पति-पत्नी, परिवार का शरीर होते हैं; आत्मा तो बच्चे और बुजुर्
पति-पत्नी, परिवार का शरीर होते हैं; आत्मा तो बच्चे और बुजुर्
विमला महरिया मौज
अंधेरे के आने का खौफ,
अंधेरे के आने का खौफ,
Buddha Prakash
कांग्रेस की आत्महत्या
कांग्रेस की आत्महत्या
Sanjay ' शून्य'
296क़.*पूर्णिका*
296क़.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
समस्या है यह आएगी_
समस्या है यह आएगी_
Rajesh vyas
डर एवं डगर
डर एवं डगर
Astuti Kumari
सद्ज्ञानमय प्रकाश फैलाना हमारी शान है।
सद्ज्ञानमय प्रकाश फैलाना हमारी शान है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"मैं आग हूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं तूफान हूँ जिधर से गुजर जाऊँगा
मैं तूफान हूँ जिधर से गुजर जाऊँगा
VINOD CHAUHAN
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रूठ जा..... ये हक है तेरा
रूठ जा..... ये हक है तेरा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
विश्व हुआ है  राममय,  गूँज  सुनो  चहुँ ओर
विश्व हुआ है राममय, गूँज सुनो चहुँ ओर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सुता ये ज्येष्ठ संस्कृत की,अलंकृत भाल पे बिंदी।
सुता ये ज्येष्ठ संस्कृत की,अलंकृत भाल पे बिंदी।
Neelam Sharma
Loading...