Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2024 · 1 min read

चन्द ख्वाब

चन्द ख्वाब राख में भी धड़कते मिलेंगे ,
मेरा वजूद जब , कुछ आंखों से बहेगा ,,,

ज़िन्दा हैं ख्वाब इस कदर कि नींद मर गई ,
ज़िद ओढ़ बैठा मन अब कुछ ना सुनेगा ,,,,

बैठा है चांद ले कर रोशनी के धागे ,
कल सुबह की खातिर नए पंख बुनेगा ,,,

– क्षमा उर्मिला

Language: Hindi
2 Likes · 69 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kshma Urmila
View all
You may also like:
ध्यान सारा लगा था सफर की तरफ़
ध्यान सारा लगा था सफर की तरफ़
अरशद रसूल बदायूंनी
*आस टूट गयी और दिल बिखर गया*
*आस टूट गयी और दिल बिखर गया*
sudhir kumar
16. आग
16. आग
Rajeev Dutta
इंसानियत का चिराग
इंसानियत का चिराग
Ritu Asooja
संज्ञा
संज्ञा
पंकज कुमार कर्ण
आँखों से गिराकर नहीं आँसू तुम
आँखों से गिराकर नहीं आँसू तुम
gurudeenverma198
क्या तुम इंसान हो ?
क्या तुम इंसान हो ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
इंतजार बाकी है
इंतजार बाकी है
शिवम राव मणि
रिश्ते
रिश्ते
पूर्वार्थ
विकटता और मित्रता
विकटता और मित्रता
Astuti Kumari
■ पाठक बचे न श्रोता।
■ पाठक बचे न श्रोता।
*Author प्रणय प्रभात*
Kya kahun ki kahne ko ab kuchh na raha,
Kya kahun ki kahne ko ab kuchh na raha,
Irfan khan
पानी की खातिर
पानी की खातिर
Dr. Kishan tandon kranti
*ऐसा हमेशा कृष्ण जैसा, मित्र होना चाहिए (मुक्तक)*
*ऐसा हमेशा कृष्ण जैसा, मित्र होना चाहिए (मुक्तक)*
Ravi Prakash
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बदलते दौर में......
बदलते दौर में......
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
लोगों की फितरत का क्या कहें जनाब यहां तो,
लोगों की फितरत का क्या कहें जनाब यहां तो,
Yogendra Chaturwedi
पावस की रात
पावस की रात
लक्ष्मी सिंह
खतरनाक आदमी / मुसाफ़िर बैठा
खतरनाक आदमी / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
★डॉ देव आशीष राय सर ★
★डॉ देव आशीष राय सर ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
गुज़ारिश आसमां से है
गुज़ारिश आसमां से है
Sangeeta Beniwal
कितना आसान है मां कहलाना,
कितना आसान है मां कहलाना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
2862.*पूर्णिका*
2862.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कैद अधरों मुस्कान है
कैद अधरों मुस्कान है
Dr. Sunita Singh
तेरे दिल की आवाज़ को हम धड़कनों में छुपा लेंगे।
तेरे दिल की आवाज़ को हम धड़कनों में छुपा लेंगे।
Phool gufran
तेरी नियत में
तेरी नियत में
Dr fauzia Naseem shad
*शिक्षक हमें पढ़ाता है*
*शिक्षक हमें पढ़ाता है*
Dushyant Kumar
मोबाईल नहीं
मोबाईल नहीं
Harish Chandra Pande
मित्रता
मित्रता
Mahendra singh kiroula
क़रार आये इन आँखों को तिरा दर्शन ज़रूरी है
क़रार आये इन आँखों को तिरा दर्शन ज़रूरी है
Sarfaraz Ahmed Aasee
Loading...