Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Sep 2016 · 1 min read

चन्द आँसू तेरे ख़ज़ाने से

मुददतों से नहीं ..ज़माने से
कौन मिलता है इस दिवाने से

देख नाखून……बढ गये मेरे
दिल के ज़ख़मों के सूख जाने से

काश मुझको भी मिल गये होते
चम्द आँसू तेरे …..ख़ज़ाने से

दर्द चेहरे पे आ. गया तेरे
फ़ायदा कुछ नहीं छुपाने से

कब से आवाज़ दे रहा हूँ मैं
आप आते नहीं ..बुलाने से

हाय अफ़सोस छोड दी सालिब
तुमने दुनिया बडे ..ठिकाने से

236 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
" सुन‌ सको तो सुनों "
Aarti sirsat
"बगैर तुलना के"
Dr. Kishan tandon kranti
3015.*पूर्णिका*
3015.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
***
*** " ये दरारों पर मेरी नाव.....! " ***
VEDANTA PATEL
*मां तुम्हारे चरणों में जन्नत है*
*मां तुम्हारे चरणों में जन्नत है*
Krishna Manshi
ग्रामीण ओलंपिक खेल
ग्रामीण ओलंपिक खेल
Shankar N aanjna
*पत्रिका समीक्षा*
*पत्रिका समीक्षा*
Ravi Prakash
हिंदी दिवस
हिंदी दिवस
Shashi Dhar Kumar
जो जिस चीज़ को तरसा है,
जो जिस चीज़ को तरसा है,
Pramila sultan
विवाह
विवाह
Shashi Mahajan
सत्य कभी निरभ्र नभ-सा
सत्य कभी निरभ्र नभ-सा
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
गुरु
गुरु
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
वतन से हम सभी इस वास्ते जीना व मरना है।
वतन से हम सभी इस वास्ते जीना व मरना है।
सत्य कुमार प्रेमी
"उड़ान"
Yogendra Chaturwedi
आवश्यकता पड़ने पर आपका सहयोग और समर्थन लेकर,आपकी ही बुराई कर
आवश्यकता पड़ने पर आपका सहयोग और समर्थन लेकर,आपकी ही बुराई कर
विमला महरिया मौज
कुछ दिन से हम दोनों मे क्यों? रहती अनबन जैसी है।
कुछ दिन से हम दोनों मे क्यों? रहती अनबन जैसी है।
अभिनव अदम्य
कियो खंड काव्य लिखैत रहताह,
कियो खंड काव्य लिखैत रहताह,
DrLakshman Jha Parimal
इस धरा का इस धरा पर सब धरा का धरा रह जाएगा,
इस धरा का इस धरा पर सब धरा का धरा रह जाएगा,
Lokesh Sharma
* प्रेम पथ पर *
* प्रेम पथ पर *
surenderpal vaidya
आप सभी को रक्षाबंधन के इस पावन पवित्र उत्सव का उरतल की गहराइ
आप सभी को रक्षाबंधन के इस पावन पवित्र उत्सव का उरतल की गहराइ
संजीव शुक्ल 'सचिन'
परेशान देख भी चुपचाप रह लेती है
परेशान देख भी चुपचाप रह लेती है
Keshav kishor Kumar
जलपरी
जलपरी
लक्ष्मी सिंह
परिवार
परिवार
नवीन जोशी 'नवल'
घर की रानी
घर की रानी
Kanchan Khanna
तू एक फूल-सा
तू एक फूल-सा
Sunanda Chaudhary
मौज  कर हर रोज कर
मौज कर हर रोज कर
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सुनील गावस्कर
सुनील गावस्कर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सवालात कितने हैं
सवालात कितने हैं
Dr fauzia Naseem shad
इस सियासत का ज्ञान कैसा है,
इस सियासत का ज्ञान कैसा है,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कारगिल युद्ध फतह दिवस
कारगिल युद्ध फतह दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...