Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Aug 2023 · 1 min read

चन्द्रयान 3

इसरो ने है रच दिया, एक नया इतिहास।
कभी बसेंगे चाँद पर, हुआ आज विश्वास।।
हुआ आज विश्वास, रही ना अब वो दूरी।
पहुँचा अपना यान, चन्द्र के दक्षिण धूरी।
हैं मामा अब पास, कहो सबसे यह मितरों।
करे देश अभिमान, बढ़े नित यूं ही इसरो।
✍️जटाशंकर”जटा”
इसरो टीम सहित समस्त देशवासियों को हार्दिक बधाई, ढ़ेरों शुभकामनाएं।
#जय हिन्द#
23/08/2023

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 460 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विधा:
विधा:"चन्द्रकान्ता वर्णवृत्त" मापनी:212-212-2 22-112-122
rekha mohan
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
💐प्रेम कौतुक-435💐
💐प्रेम कौतुक-435💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*Author प्रणय प्रभात*
जिंदगी हवाई जहाज
जिंदगी हवाई जहाज
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
भुक्त - भोगी
भुक्त - भोगी
Ramswaroop Dinkar
सारा सिस्टम गलत है
सारा सिस्टम गलत है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
“दोस्त हो तो दोस्त बनो”
“दोस्त हो तो दोस्त बनो”
DrLakshman Jha Parimal
वृद्धों को मिलता नहीं,
वृद्धों को मिलता नहीं,
sushil sarna
2563.पूर्णिका
2563.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कितना कुछ सहती है
कितना कुछ सहती है
Shweta Soni
Today's Thought
Today's Thought
DR ARUN KUMAR SHASTRI
किसी के अंतर्मन की वो आग बुझाने निकला है
किसी के अंतर्मन की वो आग बुझाने निकला है
कवि दीपक बवेजा
आप प्लस हम माइनस, कैसे हो गठजोड़ ?
आप प्लस हम माइनस, कैसे हो गठजोड़ ?
डॉ.सीमा अग्रवाल
तन्हाई
तन्हाई
Surinder blackpen
"बदलते भारत की तस्वीर"
पंकज कुमार कर्ण
#शुभरात्रि
#शुभरात्रि
आर.एस. 'प्रीतम'
प्रिये का जन्म दिन
प्रिये का जन्म दिन
विजय कुमार अग्रवाल
"एक नज़्म लिख रहा हूँ"
Lohit Tamta
फितरत
फितरत
मनोज कर्ण
जब कोई बात समझ में ना आए तो वक्त हालात पर ही छोड़ दो ,कुछ सम
जब कोई बात समझ में ना आए तो वक्त हालात पर ही छोड़ दो ,कुछ सम
Shashi kala vyas
"सत्य"
Dr. Kishan tandon kranti
दिल में गहराइयां
दिल में गहराइयां
Dr fauzia Naseem shad
*व्यर्थ में केवल नहीं, मशहूर होना चाहिए【गीतिका】*
*व्यर्थ में केवल नहीं, मशहूर होना चाहिए【गीतिका】*
Ravi Prakash
कुंए में उतरने वाली बाल्टी यदि झुकती है
कुंए में उतरने वाली बाल्टी यदि झुकती है
शेखर सिंह
सत्य छिपकर तू कहां बैठा है।
सत्य छिपकर तू कहां बैठा है।
Taj Mohammad
ये, जो बुरा वक्त आता है ना,
ये, जो बुरा वक्त आता है ना,
Sandeep Mishra
"संविधान"
Slok maurya "umang"
जिंदगी के साथ साथ ही,
जिंदगी के साथ साथ ही,
Neeraj Agarwal
शिवा कहे,
शिवा कहे, "शिव" की वाणी, जन, दुनिया थर्राए।
SPK Sachin Lodhi
Loading...