Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Oct 2016 · 1 min read

चक्र सुदर्शन , विहग गरण जब फूले थे बल म्ं बाला ।

चक्र सुदर्शन , विहग गरुण जब फूले थे बलमें , बाला!
कृष्ण इंगितों पर लीलाकर अहम् हरा पलमें ,बाला !
रूप धरा हरि ने रघुवरका, बनी सत्यभामा , सीता ।
किये कंत के चरण- स्पर्श , तज भामा पद तुमने, बाला !

—— जितेंद्रकमलआनंद

Language: Hindi
294 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दोहा-
दोहा-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
RKASHA BANDHAN
RKASHA BANDHAN
डी. के. निवातिया
💐प्रेम कौतुक-462💐
💐प्रेम कौतुक-462💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
माँ से बढ़कर नहीं है कोई
माँ से बढ़कर नहीं है कोई
जगदीश लववंशी
जब आप ही सुनते नहीं तो कौन सुनेगा आपको
जब आप ही सुनते नहीं तो कौन सुनेगा आपको
DrLakshman Jha Parimal
संत साईं बाबा
संत साईं बाबा
Pravesh Shinde
!! उमंग !!
!! उमंग !!
Akash Yadav
भाथी के विलुप्ति के कगार पर होने के बहाने / MUSAFIR BAITHA
भाथी के विलुप्ति के कगार पर होने के बहाने / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
बुध्द गीत
बुध्द गीत
Buddha Prakash
"जिन्दगी में"
Dr. Kishan tandon kranti
आदतें
आदतें
Sanjay ' शून्य'
जिसे सुनके सभी झूमें लबों से गुनगुनाएँ भी
जिसे सुनके सभी झूमें लबों से गुनगुनाएँ भी
आर.एस. 'प्रीतम'
ज़िंदगी का खेल है, सोचना समझना
ज़िंदगी का खेल है, सोचना समझना
पूर्वार्थ
घणो लागे मनैं प्यारो, सखी यो सासरो मारो
घणो लागे मनैं प्यारो, सखी यो सासरो मारो
gurudeenverma198
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हिन्द की हस्ती को
हिन्द की हस्ती को
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
डबूले वाली चाय
डबूले वाली चाय
Shyam Sundar Subramanian
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
Bhupendra Rawat
अखंड भारत
अखंड भारत
कार्तिक नितिन शर्मा
3156.*पूर्णिका*
3156.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वो मेरे दर्द को
वो मेरे दर्द को
Dr fauzia Naseem shad
■ आज की राय
■ आज की राय
*Author प्रणय प्रभात*
मानवता हमें बचाना है
मानवता हमें बचाना है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
है हिन्दी उत्पत्ति की,
है हिन्दी उत्पत्ति की,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मैं घाट तू धारा…
मैं घाट तू धारा…
Rekha Drolia
उत्कर्षता
उत्कर्षता
अंजनीत निज्जर
हरी भरी तुम सब्ज़ी खाओ|
हरी भरी तुम सब्ज़ी खाओ|
Vedha Singh
قفس میں جان جائے گی ہماری
قفس میں جان جائے گی ہماری
Simmy Hasan
SHELTER OF LIFE
SHELTER OF LIFE
Awadhesh Kumar Singh
*संसार में कितनी भॅंवर, कितनी मिलीं मॅंझधार हैं (हिंदी गजल)*
*संसार में कितनी भॅंवर, कितनी मिलीं मॅंझधार हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
Loading...