Oct 18, 2016 · 1 min read

चक्र सुदर्शन , विहग गरण जब फूले थे बल म्ं बाला ।

चक्र सुदर्शन , विहग गरुण जब फूले थे बलमें , बाला!
कृष्ण इंगितों पर लीलाकर अहम् हरा पलमें ,बाला !
रूप धरा हरि ने रघुवरका, बनी सत्यभामा , सीता ।
किये कंत के चरण- स्पर्श , तज भामा पद तुमने, बाला !

—— जितेंद्रकमलआनंद

84 Views
You may also like:
आखिर तुम खुश क्यों हो
Krishan Singh
प्यार भरे गीत
Dr.sima
कोमल हृदय - नारी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*सादा जीवन उच्च विचार के धनी कविवर रूप किशोर गुप्ता...
Ravi Prakash
मम्मी म़ुझको दुलरा जाओ..
Rashmi Sanjay
बेबसी
Varsha Chaurasiya
अरदास
Buddha Prakash
नीड़ फिर सजाना है
Saraswati Bajpai
पापा वो बचपन के
Khushboo Khatoon
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
मुक्तक- जो लड़ना भूल जाते हैं...
आकाश महेशपुरी
सुंदर सृष्टि है पिता।
Taj Mohammad
श्रीराम धरा पर आए थे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
एक शख्स सारे शहर को वीरान कर जाता हैं
Krishan Singh
!¡! बेखबर इंसान !¡!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
शहीद का पैगाम!
Anamika Singh
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
जीवन इनका भी है
Anamika Singh
ज़ुबान से फिर गया नज़र के सामने
कुमार अविनाश केसर
*स्वर्गीय श्री जय किशन चौरसिया : न थके न हारे*
Ravi Prakash
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
पिता
Aruna Dogra Sharma
मैं भारत हूँ
Dr. Sunita Singh
रे बाबा कितना मुश्किल है गाड़ी चलाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आ लौट के आजा घनश्याम
Ram Krishan Rastogi
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
कैसे समझाऊँ तुझे...
Sapna K S
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:36
AJAY AMITABH SUMAN
जब भी देखा है दूर से देखा
Anis Shah
हाइकु_रिश्ते
Manu Vashistha
Loading...