Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2024 · 1 min read

चकोर हूं मैं कभी चांद से मिला भी नहीं

गज़ल

1212/1122/1212/22(112)
चकोर हूं मैं कभी चांद से मिला भी नहीं।
करूं मैं प्यार उसे, उसको ये पता भी नहीं।

ये इश्क मुश्क भी होता है रब की मर्जी से,
नहीं नसीब में मेरे मुझे गिला भी नही।

तमाम उम्र जिन्हें प्यार ही दिया मैंने,
उन्हीं ने ज़ख्म दिए हैं कोई दवा भी नहीं।

किये तमाम नशे मैने जिंदगी में मेरी,
तुम्हारे सामने ठहरा कोई नशा भी नहीं।

उसे मैं कैसे कहूं हमसफ़र बताए कोई,
अगर चे साथ में वो दो कदम चला भी नहीं।

नहीं है प्यार जिसे कैसे हम कहें प्रेमी,
कि दर्द प्यार में जिसने कभी लिया भी नहीं।

……….✍️ सत्य कुमार प्रेमी

1 Like · 43 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आजकल लोग का घमंड भी गिरगिट के जैसा होता जा रहा है
आजकल लोग का घमंड भी गिरगिट के जैसा होता जा रहा है
शेखर सिंह
वक्त के शतरंज का प्यादा है आदमी
वक्त के शतरंज का प्यादा है आदमी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अर्जुन धुरंधर न सही ...एकलव्य तो बनना सीख लें ..मौन आखिर कब
अर्जुन धुरंधर न सही ...एकलव्य तो बनना सीख लें ..मौन आखिर कब
DrLakshman Jha Parimal
*मॉं की गोदी स्वर्ग है, देवलोक-उद्यान (कुंडलिया )*
*मॉं की गोदी स्वर्ग है, देवलोक-उद्यान (कुंडलिया )*
Ravi Prakash
रिश्ते
रिश्ते
Dr fauzia Naseem shad
👍बाटी खाने के नियम..😃
👍बाटी खाने के नियम..😃
Rituraj shivem verma
लिखना है मुझे वह सब कुछ
लिखना है मुझे वह सब कुछ
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
युवा भारत को जानो
युवा भारत को जानो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
संग सबा के
संग सबा के
sushil sarna
रंगों के पावन पर्व होली की आप सभी को हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभ
रंगों के पावन पर्व होली की आप सभी को हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभ
आर.एस. 'प्रीतम'
"मैं सब कुछ सुनकर मैं चुपचाप लौट आता हूँ
गुमनाम 'बाबा'
कितने पन्ने
कितने पन्ने
Satish Srijan
"वाह रे जमाना"
Dr. Kishan tandon kranti
अपना माना था दिल ने जिसे
अपना माना था दिल ने जिसे
Mamta Rani
नयन
नयन
डॉक्टर रागिनी
बढ़ी शय है मुहब्बत
बढ़ी शय है मुहब्बत
shabina. Naaz
सत्य होता सामने
सत्य होता सामने
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
देखिए खूबसूरत हुई भोर है।
देखिए खूबसूरत हुई भोर है।
surenderpal vaidya
एक पिता की पीर को, दे दो कुछ भी नाम।
एक पिता की पीर को, दे दो कुछ भी नाम।
Suryakant Dwivedi
झरते फूल मोहब्ब्त के
झरते फूल मोहब्ब्त के
Arvina
ये जो मुहब्बत लुका छिपी की नहीं निभेगी तुम्हारी मुझसे।
ये जो मुहब्बत लुका छिपी की नहीं निभेगी तुम्हारी मुझसे।
सत्य कुमार प्रेमी
मै जो कुछ हु वही कुछ हु।
मै जो कुछ हु वही कुछ हु।
पूर्वार्थ
■ संडे स्पेशल
■ संडे स्पेशल
*प्रणय प्रभात*
चंद्रयान-3 / (समकालीन कविता)
चंद्रयान-3 / (समकालीन कविता)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
इंतज़ार
इंतज़ार
Dipak Kumar "Girja"
हरतालिका तीज की काव्य मय कहानी
हरतालिका तीज की काव्य मय कहानी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मसला ये हैं कि ज़िंदगी उलझनों से घिरी हैं।
मसला ये हैं कि ज़िंदगी उलझनों से घिरी हैं।
ओसमणी साहू 'ओश'
तेवरी इसलिए तेवरी है [आलेख ] +रमेशराज
तेवरी इसलिए तेवरी है [आलेख ] +रमेशराज
कवि रमेशराज
!! मैं उसको ढूंढ रहा हूँ !!
!! मैं उसको ढूंढ रहा हूँ !!
Chunnu Lal Gupta
23/119.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/119.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...