Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

चंद शेर आपके लिए

चंद शेर आपके लिए

एक।

दर्द मुझसे मिलकर अब मुस्कराता है
जब दर्द को दबा जानकार पिया मैंने

दो.

जब हाथों हाथ लेते थे अपने भी पराये भी
बचपन यार अच्छा था हँसता मुस्कराता था

प्रस्तुति:
मदन मोहन सक्सेना

173 Views
You may also like:
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कोई एहसास है शायद
Dr fauzia Naseem shad
नदी को बहने दो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Dr. Kishan Karigar
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
✍️कैसे मान लुँ ✍️
Vaishnavi Gupta
प्यार
Anamika Singh
इंतज़ार थमा
Dr fauzia Naseem shad
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
ऐ ज़िन्दगी तुझे
Dr fauzia Naseem shad
आह! भूख और गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
चोट गहरी थी मेरे ज़ख़्मों की
Dr fauzia Naseem shad
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
सफलता कदम चूमेगी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दर्द की हम दवा
Dr fauzia Naseem shad
सत्य कभी नही मिटता
Anamika Singh
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
💔💔...broken
Palak Shreya
✍️इतने महान नही ✍️
Vaishnavi Gupta
इस तरह
Dr fauzia Naseem shad
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
✍️अकेले रह गये ✍️
Vaishnavi Gupta
दर्द ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
Loading...