Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Oct 2016 · 1 min read

चंद बुँदे चंद प्यासे

चंद बुँदे ,चंद प्यासे
आँखे मूंदे चंद साँसे
***************
चंद लम्हे ,चंद राते
चंद लहजे चंद बाते
***************
चंद ठहरे हैं जरा से
चंद उड़ते हैं हवा से
**************
चंद रिश्ते हैं दुआ से
चंद लगते बद्दुआ से
***************
चंद शेर अच्छे खासे
चंद न अच्छे बला से
***************
कपिल कुमार
29/10/2016

192 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ये मानसिकता हा गलत आये के मोर ददा बबा मन‌ साग भाजी बेचत रहिन
ये मानसिकता हा गलत आये के मोर ददा बबा मन‌ साग भाजी बेचत रहिन
PK Pappu Patel
*पारस-मणि की चाह नहीं प्रभु, तुमको कैसे पाऊॅं (गीत)*
*पारस-मणि की चाह नहीं प्रभु, तुमको कैसे पाऊॅं (गीत)*
Ravi Prakash
“ जीने का अंदाज़ “
“ जीने का अंदाज़ “
DrLakshman Jha Parimal
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
दर्द का बस एक
दर्द का बस एक
Dr fauzia Naseem shad
रमेशराज के विरोधरस दोहे
रमेशराज के विरोधरस दोहे
कवि रमेशराज
अभी कुछ बरस बीते
अभी कुछ बरस बीते
shabina. Naaz
कभी किताब से गुज़रे
कभी किताब से गुज़रे
Ranjana Verma
******
******" दो घड़ी बैठ मेरे पास ******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हाथ की लकीरों में फ़क़ीरी लिखी है वो कहते थे हमें
हाथ की लकीरों में फ़क़ीरी लिखी है वो कहते थे हमें
VINOD CHAUHAN
शिक्षित बनो शिक्षा से
शिक्षित बनो शिक्षा से
gurudeenverma198
ग़ज़ल/नज़्म - मैं बस काश! काश! करते-करते रह गया
ग़ज़ल/नज़्म - मैं बस काश! काश! करते-करते रह गया
अनिल कुमार
#मुक्तक-
#मुक्तक-
*Author प्रणय प्रभात*
श्री श्याम भजन
श्री श्याम भजन
Khaimsingh Saini
कभी कभी पागल होना भी
कभी कभी पागल होना भी
Vandana maurya
नवाब तो छा गया ...
नवाब तो छा गया ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
"लड़कर जीना"
Dr. Kishan tandon kranti
2555.पूर्णिका
2555.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
वो नौजवान राष्ट्रधर्म के लिए अड़ा रहा !
वो नौजवान राष्ट्रधर्म के लिए अड़ा रहा !
जगदीश शर्मा सहज
An Evening
An Evening
goutam shaw
मैं वो चीज़ हूं जो इश्क़ में मर जाऊंगी।
मैं वो चीज़ हूं जो इश्क़ में मर जाऊंगी।
Phool gufran
मेरे पापा
मेरे पापा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हो रही बरसात झमाझम....
हो रही बरसात झमाझम....
डॉ. दीपक मेवाती
ईश्वर की महिमा...…..….. देवशयनी एकादशी
ईश्वर की महिमा...…..….. देवशयनी एकादशी
Neeraj Agarwal
सुन्दरता।
सुन्दरता।
Anil Mishra Prahari
पल पल का अस्तित्व
पल पल का अस्तित्व
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
इश्क़ जोड़ता है तोड़ता नहीं
इश्क़ जोड़ता है तोड़ता नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नींद की कुंजी / MUSAFIR BAITHA
नींद की कुंजी / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
#प्यार...
#प्यार...
Sadhnalmp2001
आस्था और भक्ति की तुलना बेकार है ।
आस्था और भक्ति की तुलना बेकार है ।
Seema Verma
Loading...