Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Sep 2022 · 1 min read

” चंद अश’आर ” – काज़ीकीक़लम से

🌺 चंद अश’आर 🌺

मिरी आशिक़ी ही मिरी पहचान है ।
तेरे दिल में बस्ती मिरी जान है ।।

समझ रहे थे जिसे गहरी चोट सब ।
वो तो तिरी चाहत का निशान है ।।

ग़मज़दा होकर तिरे दर से लौट आये हैं ।
हमारा हाल देखकर लोग भी हैरान है ।।

तिरे सामने रहते हैं सारा दिन हम तो ।
हमीं को छोड़कर सभी पे तिरा ध्यान है ।।

“काज़ी” तिरी बात पर यकीं कर लिया सबने ।
दिल को लगता है.. ग़लत तिरा बयान है ।।

©डॉक्टर वासिफ़ काज़ी , ” काज़ीकीक़लम ”
28/3/2 , इकबाल कालोनी , अहिल्या पल्टन
इंदौर , मध्यप्रदेश

3 Likes · 1 Comment · 161 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बुद्धत्व से बुद्ध है ।
बुद्धत्व से बुद्ध है ।
Buddha Prakash
अजी सुनते हो मेरे फ्रिज में टमाटर भी है !
अजी सुनते हो मेरे फ्रिज में टमाटर भी है !
Anand Kumar
मीठे बोल
मीठे बोल
Sanjay ' शून्य'
अपनी सीमाओं को लांगा
अपनी सीमाओं को लांगा
कवि दीपक बवेजा
भारत में भीख मांगते हाथों की ۔۔۔۔۔
भारत में भीख मांगते हाथों की ۔۔۔۔۔
Dr fauzia Naseem shad
वक्त
वक्त
Ramswaroop Dinkar
तेरे ख्वाब सदा ही सजाते थे
तेरे ख्वाब सदा ही सजाते थे
अनूप अम्बर
मार नहीं, प्यार करो
मार नहीं, प्यार करो
Shekhar Chandra Mitra
दूसरे का चलता है...अपनों का ख़लता है
दूसरे का चलता है...अपनों का ख़लता है
Mamta Singh Devaa
दस्तावेज बोलते हैं (शोध-लेख)
दस्तावेज बोलते हैं (शोध-लेख)
Ravi Prakash
ओ! महानगर
ओ! महानगर
Punam Pande
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
#शर्माजी के शब्द
#शर्माजी के शब्द
pravin sharma
__सुविचार__
__सुविचार__
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
दीवाली की हार्दिक शुभकामनाएं 🙏💐
दीवाली की हार्दिक शुभकामनाएं 🙏💐
Monika Verma
कौन सुनेगा बात हमारी
कौन सुनेगा बात हमारी
Surinder blackpen
माँ तो पावन प्रीति है,
माँ तो पावन प्रीति है,
अभिनव अदम्य
मेरा एक छोटा सा सपना है ।
मेरा एक छोटा सा सपना है ।
PRATIK JANGID
2255.
2255.
Dr.Khedu Bharti
■ बेबी नज़्म...
■ बेबी नज़्म...
*Author प्रणय प्रभात*
मत फैला तू हाथ अब उसके सामने
मत फैला तू हाथ अब उसके सामने
gurudeenverma198
*** चल अकेला.....!!! ***
*** चल अकेला.....!!! ***
VEDANTA PATEL
गंवई गांव के गोठ
गंवई गांव के गोठ
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
आदमी चिकना घड़ा है...
आदमी चिकना घड़ा है...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मैं कुछ इस तरह
मैं कुछ इस तरह
Dr Manju Saini
हौसला बुलंद और इरादे मजबूत रखिए,
हौसला बुलंद और इरादे मजबूत रखिए,
Yogendra Chaturwedi
बंदिशें
बंदिशें
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रिश्ते-नाते
रिश्ते-नाते
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...