Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 May 2023 · 1 min read

चंद्र ग्रहण के बाद ही, बदलेगी तस्वीर

चंद्र ग्रहण के बाद ही, बदलेगी तस्वीर
अलग दिखेंगी राशियाँ, बदलेगी तक़दीर
महावीर उत्तरांचली

1 Like · 383 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
#शख़्सियत...
#शख़्सियत...
*Author प्रणय प्रभात*
!! पत्थर नहीं हूँ मैं !!
!! पत्थर नहीं हूँ मैं !!
Chunnu Lal Gupta
फिर क्यूँ मुझे?
फिर क्यूँ मुझे?
Pratibha Pandey
मुक्तक
मुक्तक
Mahender Singh
आज के समय में शादियां सिर्फ एक दिखावा बन गई हैं। लोग शादी को
आज के समय में शादियां सिर्फ एक दिखावा बन गई हैं। लोग शादी को
पूर्वार्थ
धैर्य.....….....सब्र
धैर्य.....….....सब्र
Neeraj Agarwal
"वैसा ही है"
Dr. Kishan tandon kranti
ये काले बादलों से जैसे, आती रात क्या
ये काले बादलों से जैसे, आती रात क्या
Ravi Prakash
- एक दिन उनको मेरा प्यार जरूर याद आएगा -
- एक दिन उनको मेरा प्यार जरूर याद आएगा -
bharat gehlot
क्या ग़रीबी भी
क्या ग़रीबी भी
Dr fauzia Naseem shad
कविता के अ-भाव से उपजी एक कविता / MUSAFIR BAITHA
कविता के अ-भाव से उपजी एक कविता / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
रजनी कजरारी
रजनी कजरारी
Dr Meenu Poonia
रिश्ते
रिश्ते
Sanjay ' शून्य'
आना ओ नोनी के दाई
आना ओ नोनी के दाई
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
भक्तिभाव
भक्तिभाव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*अम्मा*
*अम्मा*
Ashokatv
हे!शक्ति की देवी दुर्गे माँ,
हे!शक्ति की देवी दुर्गे माँ,
Satish Srijan
आओ एक गीत लिखते है।
आओ एक गीत लिखते है।
PRATIK JANGID
प्रीत
प्रीत
Mahesh Tiwari 'Ayan'
आने वाले कल का ना इतना इंतजार करो ,
आने वाले कल का ना इतना इंतजार करो ,
Neerja Sharma
सुख मेरा..!
सुख मेरा..!
Hanuman Ramawat
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जय मां शारदे
जय मां शारदे
Mukesh Kumar Sonkar
अंदाज़े बयाँ
अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मानव के बस में नहीं, पतझड़  या  मधुमास ।
मानव के बस में नहीं, पतझड़ या मधुमास ।
sushil sarna
2515.पूर्णिका
2515.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
आखिर वो तो जीते हैं जीवन, फिर क्यों नहीं खुश हम जीवन से
आखिर वो तो जीते हैं जीवन, फिर क्यों नहीं खुश हम जीवन से
gurudeenverma198
शब्द
शब्द
Ajay Mishra
यक्ष प्रश्न
यक्ष प्रश्न
Mamta Singh Devaa
...और फिर कदम दर कदम आगे बढ जाना है
...और फिर कदम दर कदम आगे बढ जाना है
'अशांत' शेखर
Loading...