Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Aug 2023 · 1 min read

चंद्रयान 3

रख्खेंगे हम चाँद पर,अपने पग इस बार
चंद्रयान ये तीन है, होगी जय जयकार
होगी जय जयकार,जीत का जश्न मनेगा
अपना भारत देश,नया इतिहास रचेगा
कहे अर्चना बात, चाँद पर हम पहुँचेंगे
होगा सबको गर्व, नींव ऐसी रख्खेंगे
23-08-2023
डॉ अर्चना गुप्ता

6 Likes · 4 Comments · 1709 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
जिंदगी के तूफ़ानों की प्रवाह ना कर
जिंदगी के तूफ़ानों की प्रवाह ना कर
VINOD CHAUHAN
"नए सवेरे की खुशी" (The Joy of a New Morning)
Sidhartha Mishra
फिर आई स्कूल की यादें
फिर आई स्कूल की यादें
Arjun Bhaskar
मेरी आंखों का
मेरी आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
" आशा "
Dr. Kishan tandon kranti
ऐसे रुखसत तुम होकर, जावो नहीं हमसे दूर
ऐसे रुखसत तुम होकर, जावो नहीं हमसे दूर
gurudeenverma198
दुनिया कितनी निराली इस जग की
दुनिया कितनी निराली इस जग की
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
उम्र के इस पडाव
उम्र के इस पडाव
Bodhisatva kastooriya
जमाने को खुद पे
जमाने को खुद पे
A🇨🇭maanush
गिरमिटिया मजदूर
गिरमिटिया मजदूर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मूर्ख बनाने की ओर ।
मूर्ख बनाने की ओर ।
Buddha Prakash
कभी कभी आईना भी,
कभी कभी आईना भी,
शेखर सिंह
तलाश हमें  मौके की नहीं मुलाकात की है
तलाश हमें मौके की नहीं मुलाकात की है
Tushar Singh
विषय - पर्यावरण
विषय - पर्यावरण
Neeraj Agarwal
रससिद्धान्त मूलतः अर्थसिद्धान्त पर आधारित
रससिद्धान्त मूलतः अर्थसिद्धान्त पर आधारित
कवि रमेशराज
बस यूँ ही
बस यूँ ही
Neelam Sharma
आफ़ताब
आफ़ताब
Atul "Krishn"
*रामनगर के विश्व प्रसिद्ध रिजॉर्ट*
*रामनगर के विश्व प्रसिद्ध रिजॉर्ट*
Ravi Prakash
खामोशियों की वफ़ाओं ने मुझे, गहराई में खुद से उतारा है।
खामोशियों की वफ़ाओं ने मुझे, गहराई में खुद से उतारा है।
Manisha Manjari
हमारा देश
हमारा देश
SHAMA PARVEEN
रात
रात
sushil sarna
"" *सौगात* ""
सुनीलानंद महंत
हम तो बस कहते रहे, अपने दिल की बात।
हम तो बस कहते रहे, अपने दिल की बात।
Suryakant Dwivedi
संवेदना(कलम की दुनिया)
संवेदना(कलम की दुनिया)
Dr. Vaishali Verma
जीत हार का देख लो, बदला आज प्रकार।
जीत हार का देख लो, बदला आज प्रकार।
Arvind trivedi
अपनों का साथ भी बड़ा विचित्र हैं,
अपनों का साथ भी बड़ा विचित्र हैं,
Umender kumar
#व्यंग्य-
#व्यंग्य-
*प्रणय प्रभात*
जागे हैं देर तक
जागे हैं देर तक
Sampada
इश्क की कीमत
इश्क की कीमत
Mangilal 713
मैं फूलों पे लिखती हूँ,तारों पे लिखती हूँ
मैं फूलों पे लिखती हूँ,तारों पे लिखती हूँ
Shweta Soni
Loading...