Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Apr 2024 · 1 min read

चंचल मन

***चंचल मन***
चंचल मन अति ही पावन
पल मे करे ये जग भ्रमण
कभी अयोध्या, कही ये काशी
कभी करे ये हज़ का भ्रमण ।
चंचल मन अति ही पावन
एक क्षण करे ये मात की भक्ति
कभी करे ये राष्ट्र की भक्ति
पल मे करे ये सब खुद पर अर्पण ।।
चंचल मन अति ही पावन
कभी यहाँ तो कभी वहाँ
कैसा मन है ये पावन
रहे कभी ना एक पल स्थिर ।।।
***दिनेश कुमार गंगवार ***

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 28 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कठपुतली ( #नेपाली_कविता)
कठपुतली ( #नेपाली_कविता)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
छत्तीसगढ़ स्थापना दिवस
छत्तीसगढ़ स्थापना दिवस
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
गर बिछड़ जाएं हम तो भी रोना न तुम
गर बिछड़ जाएं हम तो भी रोना न तुम
Dr Archana Gupta
*आई बारिश घिर उठी ,नभ मे जैसे शाम* ( *कुंडलिया* )
*आई बारिश घिर उठी ,नभ मे जैसे शाम* ( *कुंडलिया* )
Ravi Prakash
जिन्दगी की किताब में
जिन्दगी की किताब में
Mangilal 713
✍️✍️✍️✍️
✍️✍️✍️✍️
शेखर सिंह
मोहब्बत का पहला एहसास
मोहब्बत का पहला एहसास
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
शब्द✍️ नहीं हैं अनकहे😷
शब्द✍️ नहीं हैं अनकहे😷
डॉ० रोहित कौशिक
"स्वतंत्रता दिवस"
Slok maurya "umang"
शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप से स्वस्थ्य
शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप से स्वस्थ्य
Dr.Rashmi Mishra
जागो बहन जगा दे देश 🙏
जागो बहन जगा दे देश 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बचपन
बचपन
लक्ष्मी सिंह
3383⚘ *पूर्णिका* ⚘
3383⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
मुसीबतों को भी खुद पर नाज था,
मुसीबतों को भी खुद पर नाज था,
manjula chauhan
लम्हा-लम्हा
लम्हा-लम्हा
Surinder blackpen
माईया पधारो घर द्वारे
माईया पधारो घर द्वारे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*मन का समंदर*
*मन का समंदर*
Sûrëkhâ
"कुछ तो सोचो"
Dr. Kishan tandon kranti
नहीं उनकी बलि लो तुम
नहीं उनकी बलि लो तुम
gurudeenverma198
वस्तु काल्पनिक छोड़कर,
वस्तु काल्पनिक छोड़कर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रंगरेज कहां है
रंगरेज कहां है
Shiva Awasthi
"ओट पर्दे की"
Ekta chitrangini
शुम प्रभात मित्रो !
शुम प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
-- क्लेश तब और अब -
-- क्लेश तब और अब -
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
भारत का बजट
भारत का बजट
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
आन-बान-शान हमारी हिंदी भाषा
आन-बान-शान हमारी हिंदी भाषा
Raju Gajbhiye
आत्मस्वरुप
आत्मस्वरुप
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
"सफलता कुछ करने या कुछ पाने में नहीं बल्कि अपनी सम्भावनाओं क
पूर्वार्थ
मनु-पुत्रः मनु के वंशज...
मनु-पुत्रः मनु के वंशज...
डॉ.सीमा अग्रवाल
#झांसों_से_बचें
#झांसों_से_बचें
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...