Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jun 2023 · 1 min read

“चंचल काव्या”

“चंचल काव्या”
पापा को स्कूल की सब बात बताकर हर्षाती
मीनू के आंचल का दुलार पाकर वह मुस्कुराती
रोमित के साथ शैतानियां कर खुश हो जाती
स्वभाव में चुलबुली सी है मेरी बिटिया काव्या,
हृदय में अपने कोई भी बात वह रख नहीं पाती
झटपट से मम्मी को सारी दिनचर्या वो बता देती
रोमित को लाड़ लड़ाती, कभी डांट भी लगा देती
व्यवहार में बहुत शालीन है मेरी बिटिया काव्या,
क्रिकेट है पसंदीदा खेल खूब चौके छक्के लगाती
कभी तो शतरंज खेलती कभी वीडियो गेम सुहाती
साईकिल से करती सैर गुडिया से नफरत करती
आउटडोर खेल की बादशाह है मेरी बिटिया काव्या,
कभी भी किसी चीज के लिए शिकायत नहीं करती
मम्मी की प्यारी सी दोस्त, मन लगाकर पढ़ाई करती
सभ्यता से करती हर काम वह बड़ों का आदर करती
पापा की तो आंखों का तारा है मेरी बिटिया काव्या।

Language: Hindi
1 Like · 306 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Meenu Poonia
View all
You may also like:
खिलते फूल
खिलते फूल
Punam Pande
समय ही अहंकार को पैदा करता है और समय ही अहंकार को खत्म करता
समय ही अहंकार को पैदा करता है और समय ही अहंकार को खत्म करता
Rj Anand Prajapati
समय बदल रहा है..
समय बदल रहा है..
ओनिका सेतिया 'अनु '
इश्क़ का दामन थामे
इश्क़ का दामन थामे
Surinder blackpen
गरीबी और लाचारी
गरीबी और लाचारी
Mukesh Kumar Sonkar
गाडगे पुण्यतिथि
गाडगे पुण्यतिथि
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
पहचान धूर्त की
पहचान धूर्त की
विक्रम कुमार
ईमानदारी, दृढ़ इच्छाशक्ति
ईमानदारी, दृढ़ इच्छाशक्ति
Dr.Rashmi Mishra
इश्क़ के नाम पर धोखा मिला करता है यहां।
इश्क़ के नाम पर धोखा मिला करता है यहां।
Phool gufran
होते हम अजनबी तो,ऐसा तो नहीं होता
होते हम अजनबी तो,ऐसा तो नहीं होता
gurudeenverma198
एक बेहतर जिंदगी का ख्वाब लिए जी रहे हैं सब
एक बेहतर जिंदगी का ख्वाब लिए जी रहे हैं सब
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सम्मान नहीं मिलता
सम्मान नहीं मिलता
Dr fauzia Naseem shad
*श्री महेश राही जी (श्रद्धाँजलि/गीतिका)*
*श्री महेश राही जी (श्रद्धाँजलि/गीतिका)*
Ravi Prakash
मदहोशियां कहाँ ले जाएंगी क्या मालूम
मदहोशियां कहाँ ले जाएंगी क्या मालूम
VINOD CHAUHAN
हमारे जैसी दुनिया
हमारे जैसी दुनिया
Sangeeta Beniwal
तुम्हारा हर लहज़ा, हर अंदाज़,
तुम्हारा हर लहज़ा, हर अंदाज़,
ओसमणी साहू 'ओश'
#लघुकथा
#लघुकथा
*प्रणय प्रभात*
अनुशासित रहे, खुद पर नियंत्रण रखें ।
अनुशासित रहे, खुद पर नियंत्रण रखें ।
Shubham Pandey (S P)
पर्यावरण संरक्षण*
पर्यावरण संरक्षण*
Madhu Shah
गांव की ख्वाइश है शहर हो जानें की और जो गांव हो चुके हैं शहर
गांव की ख्वाइश है शहर हो जानें की और जो गांव हो चुके हैं शहर
Soniya Goswami
#अज्ञानी_की_कलम
#अज्ञानी_की_कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
3206.*पूर्णिका*
3206.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हर लम्हा दास्ताँ नहीं होता ।
हर लम्हा दास्ताँ नहीं होता ।
sushil sarna
मानव हो मानवता धरो
मानव हो मानवता धरो
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
जज़्बा है, रौशनी है
जज़्बा है, रौशनी है
Dhriti Mishra
कुछ भी भूलती नहीं मैं,
कुछ भी भूलती नहीं मैं,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
खामोस है जमीं खामोस आसमां ,
खामोस है जमीं खामोस आसमां ,
Neeraj Mishra " नीर "
ऐ मोनाल तूॅ आ
ऐ मोनाल तूॅ आ
Mohan Pandey
हर पाँच बरस के बाद
हर पाँच बरस के बाद
Johnny Ahmed 'क़ैस'
भारत के राम
भारत के राम
करन ''केसरा''
Loading...