Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jul 2017 · 1 min read

घूँघट के पार

????
नारी हाथों में रही,सकल सृष्टि पतवार।
काफी कुछ है नारियाँ,इस घूँघट के पार।

घर-आँगन रौशन करे,ये सूरज दमदार।
स्नेह, ममता, त्याग की,शक्ति रूप साकार ।
दुर्गा, काली अंबिका,लक्ष्मी का अवतार।
रही प्रबल जो मर्द से, प्रेरक का आधार।
काफी कुछ है नारियाँ,इस घूँघट के पार।

ओढी शिक्षा का चुनर,हैआधुनिक विचार।
घर-बाहर सम्हालती दोधारी तलवार।
तोड़ गुलामी की सभी,फाँद चार दीवार।
गूँज रही है चाँद पर,अब जिसकी झंकार।
काफी कुछ है नारियाँ,इस घूँघट के पार।

सेना बनकर देश हित,करती रिपु पर वार।
रक्षा करने के लिए,खड़ी रही तैयार।
तन-मन कोमल फूल सी,बन जाती अंगार।
दुष्ट दानवों का करें, क्षण में ही संहार।
काफी कुछ है नारियाँ,इस घूँघट के पार।

सजग,,सबल,शालीनता,सतत सुभग व्यवहार।
नहीं भूलती धर्म को, मर्यादा, संस्कार।
दिया मात जो नियति को,बनी तीक्ष्ण औजार
नारी में दिखता सदा, ईश्वरीय चमत्कार।
काफी कुछ है नारियाँ,इस घूँघट के पार।
—लक्ष्मी सिंह

Language: Hindi
Tag: गीत
2 Likes · 620 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
उनकी नाराज़गी से हमें बहुत दुःख हुआ
उनकी नाराज़गी से हमें बहुत दुःख हुआ
Govind Kumar Pandey
मैं हर महीने भीग जाती हूँ
मैं हर महीने भीग जाती हूँ
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
ଆପଣଙ୍କର ଅଛି।।।
ଆପଣଙ୍କର ଅଛି।।।
Otteri Selvakumar
प्रेम की बात जमाने से निराली देखी
प्रेम की बात जमाने से निराली देखी
Vishal babu (vishu)
जिनमें बिना किसी विरोध के अपनी गलतियों
जिनमें बिना किसी विरोध के अपनी गलतियों
Paras Nath Jha
3218.*पूर्णिका*
3218.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
307वीं कविगोष्ठी रपट दिनांक-7-1-2024
307वीं कविगोष्ठी रपट दिनांक-7-1-2024
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*हम विफल लोग है*
*हम विफल लोग है*
पूर्वार्थ
किसी बच्चे की हँसी देखकर
किसी बच्चे की हँसी देखकर
ruby kumari
#देसी ग़ज़ल
#देसी ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आदमी चिकना घड़ा है...
आदमी चिकना घड़ा है...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मैं उनकी ज़फाएं सहे जा रहा हूॅं।
मैं उनकी ज़फाएं सहे जा रहा हूॅं।
सत्य कुमार प्रेमी
जो भी पाना है उसको खोना है
जो भी पाना है उसको खोना है
Shweta Soni
तेरे पास आए माँ तेरे पास आए
तेरे पास आए माँ तेरे पास आए
Basant Bhagawan Roy
बूढ़ी मां
बूढ़ी मां
Sûrëkhâ
* गूगल वूगल *
* गूगल वूगल *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
-मंहगे हुए टमाटर जी
-मंहगे हुए टमाटर जी
Seema gupta,Alwar
"अविस्मरणीय"
Dr. Kishan tandon kranti
'ਸਾਜਿਸ਼'
'ਸਾਜਿਸ਼'
विनोद सिल्ला
एक तरफा प्यार
एक तरफा प्यार
Neeraj Agarwal
एक अच्छी जिंदगी जीने के लिए पढ़ाई के सारे कोर्स करने से अच्छा
एक अच्छी जिंदगी जीने के लिए पढ़ाई के सारे कोर्स करने से अच्छा
Dr. Man Mohan Krishna
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
ना हो अपनी धरती बेवा।
ना हो अपनी धरती बेवा।
Ashok Sharma
हम हो जायेंगें दूर तूझसे,
हम हो जायेंगें दूर तूझसे,
$úDhÁ MãÚ₹Yá
हो जाती है साँझ
हो जाती है साँझ
sushil sarna
ख़त्म हुआ जो
ख़त्म हुआ जो
Dr fauzia Naseem shad
मुझे तुमसे अनुराग कितना है?
मुझे तुमसे अनुराग कितना है?
Bodhisatva kastooriya
कुछ नया लिखना है आज
कुछ नया लिखना है आज
करन ''केसरा''
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
Loading...