Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Nov 2023 · 1 min read

घुली अजब सी भांग

भारतीय राजनीति के कूप
में घुली अजब सी भांग
राजनेता अपनी जीत को
करते नित नव नव स्वांग
खुद को मानें दुग्ध धुला
प्रतिद्वंद्वियों का हरें चीर
पर असलियत में दिखती
नहीं उन्हें जन मन की पीर
महज वादों से कर रहे हैं
वो लोकतंत्र का कल्याण
उनकी संकुचित सोच से
घटा राजनीति का मान
हे ईश्वर शीघ्र दीजिए सब
राजनीतिकों को सदविवेक
जन कल्याण को ध्यान में
रखकर काम करें विशेष

Language: Hindi
390 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कमाई / MUSAFIR BAITHA
कमाई / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
तारीफ किसकी करूं किसको बुरा कह दूं
तारीफ किसकी करूं किसको बुरा कह दूं
कवि दीपक बवेजा
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Harish Chandra Pande
2538.पूर्णिका
2538.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तर्जनी आक्षेेप कर रही विभा पर
तर्जनी आक्षेेप कर रही विभा पर
Suryakant Dwivedi
Tumhe Pakar Jane Kya Kya Socha Tha
Tumhe Pakar Jane Kya Kya Socha Tha
Kumar lalit
जब अन्तस में घिरी हो, दुख की घटा अटूट,
जब अन्तस में घिरी हो, दुख की घटा अटूट,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
चक्रवृद्धि प्यार में
चक्रवृद्धि प्यार में
Pratibha Pandey
आज कल कुछ लोग काम निकलते ही
आज कल कुछ लोग काम निकलते ही
शेखर सिंह
बुरा नहीं देखेंगे
बुरा नहीं देखेंगे
Sonam Puneet Dubey
श्रावण सोमवार
श्रावण सोमवार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
सुना है सपनों की हाट लगी है , चलो कोई उम्मीद खरीदें,
सुना है सपनों की हाट लगी है , चलो कोई उम्मीद खरीदें,
Manju sagar
डॉ अरुण कुमार शास्त्री /एक अबोध बालक
डॉ अरुण कुमार शास्त्री /एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
সিগারেট নেশা ছিল না
সিগারেট নেশা ছিল না
Sakhawat Jisan
💐प्रेम कौतुक-523💐
💐प्रेम कौतुक-523💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बात न बनती युद्ध से, होता बस संहार।
बात न बनती युद्ध से, होता बस संहार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
माना कि दुनिया बहुत बुरी है
माना कि दुनिया बहुत बुरी है
Shekhar Chandra Mitra
तुम ही तो हो
तुम ही तो हो
Ashish Kumar
यह 🤦😥😭दुःखी संसार🌐🌏🌎🗺️
यह 🤦😥😭दुःखी संसार🌐🌏🌎🗺️
डॉ० रोहित कौशिक
शिकवा
शिकवा
अखिलेश 'अखिल'
सरकार हैं हम
सरकार हैं हम
pravin sharma
वक्त का घुमाव तो
वक्त का घुमाव तो
Mahesh Tiwari 'Ayan'
स्वप्न मन के सभी नित्य खंडित हुए ।
स्वप्न मन के सभी नित्य खंडित हुए ।
Arvind trivedi
मैं तुलसी तेरे आँगन की
मैं तुलसी तेरे आँगन की
Shashi kala vyas
"जो डर गया, समझो मर गया।"
*Author प्रणय प्रभात*
पत्नी की प्रतिक्रिया
पत्नी की प्रतिक्रिया
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
अधूरी मुलाकात
अधूरी मुलाकात
Neeraj Agarwal
वफ़ाओं का सिला कोई नहीं
वफ़ाओं का सिला कोई नहीं
अरशद रसूल बदायूंनी
आप वही करें जिससे आपको प्रसन्नता मिलती है।
आप वही करें जिससे आपको प्रसन्नता मिलती है।
लक्ष्मी सिंह
Loading...