Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Sep 2022 · 1 min read

घिसी चप्पल

घिसी हुई चप्पल बिता हुआ कल दिखाता है।
मेहनत करने से सफलता मिलेगी सिखाता है।।

ऊँचा मुक़ाम हासिल करने की ज़िद ,जुनून हो
तो चप्पल घिसने तक करे सब्र वही आगे जाता है।।

©® प्रेमयाद कुमार नवीन

1 Like · 280 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रिश्ते कैजुअल इसलिए हो गए है
रिश्ते कैजुअल इसलिए हो गए है
पूर्वार्थ
मानवता
मानवता
विजय कुमार अग्रवाल
माँ...की यादें...।
माँ...की यादें...।
Awadhesh Kumar Singh
***संशय***
***संशय***
प्रेमदास वसु सुरेखा
"ये तन किराये का घर"
Dr. Kishan tandon kranti
*झंडा (बाल कविता)*
*झंडा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
डर के आगे जीत।
डर के आगे जीत।
Anil Mishra Prahari
हर खुशी पर फिर से पहरा हो गया।
हर खुशी पर फिर से पहरा हो गया।
सत्य कुमार प्रेमी
जन्म मृत्यु का विश्व में, प्रश्न सदा से यक्ष ।
जन्म मृत्यु का विश्व में, प्रश्न सदा से यक्ष ।
Arvind trivedi
ज़िंदगी से शिकायत
ज़िंदगी से शिकायत
Dr fauzia Naseem shad
चलो चलें वहां जहां मिले ख़ुशी
चलो चलें वहां जहां मिले ख़ुशी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
■ आज भी...।
■ आज भी...।
*Author प्रणय प्रभात*
জীবন চলচ্চিত্রের একটি খালি রিল, যেখানে আমরা আমাদের ইচ্ছামত গ
জীবন চলচ্চিত্রের একটি খালি রিল, যেখানে আমরা আমাদের ইচ্ছামত গ
Sakhawat Jisan
गिरता है धीरे धीरे इंसान
गिरता है धीरे धीरे इंसान
Sanjay ' शून्य'
सिद्धार्थ बुद्ध की करुणा
सिद्धार्थ बुद्ध की करुणा
Buddha Prakash
क्यों हो गया अब हमसे खफ़ा
क्यों हो गया अब हमसे खफ़ा
gurudeenverma198
शब्द और अर्थ समझकर हम सभी कहते हैं
शब्द और अर्थ समझकर हम सभी कहते हैं
Neeraj Agarwal
मैं बेटी हूँ
मैं बेटी हूँ
लक्ष्मी सिंह
हौसले के बिना उड़ान में क्या
हौसले के बिना उड़ान में क्या
Dr Archana Gupta
२०२३
२०२३
Neelam Sharma
लग जाए गले से गले
लग जाए गले से गले
Ankita Patel
मां का घर
मां का घर
नूरफातिमा खातून नूरी
मातृ रूप
मातृ रूप
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
(वक्त)
(वक्त)
Sangeeta Beniwal
बड़ा भाई बोल रहा हूं।
बड़ा भाई बोल रहा हूं।
SATPAL CHAUHAN
जिस्मों के चाह रखने वाले मुर्शद ,
जिस्मों के चाह रखने वाले मुर्शद ,
शेखर सिंह
#पंचैती
#पंचैती
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
आखिर क्या कमी है मुझमें......??
आखिर क्या कमी है मुझमें......??
Keshav kishor Kumar
'मजदूर'
'मजदूर'
Godambari Negi
समरथ को नही दोष गोसाई
समरथ को नही दोष गोसाई
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...