Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 May 2022 · 1 min read

घातक शत्रु

किसी का कोई उकवाँ-कारीबी
जो उसका साथ देता हमेशा
रहता हर वक्त हर पल सदा
वैमत्य – कलह होने पर वो
बन जाता हमारा एक वह
बड़ा ही घातक प्रतिद्वंदी
वही हमारा प्रत्यवस्थाता
प्राणांतक होता वो घातक
उसके पास हमारे निमिष,
हर क्षण-क्षण का मेल उन्हें
वही हमारा जानी वैमनस्यता
वही हमारा होता घातक शत्रु।

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 250 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आप नौसेखिए ही रहेंगे
आप नौसेखिए ही रहेंगे
Lakhan Yadav
बेटी नहीं उपहार हैं खुशियों का संसार हैं
बेटी नहीं उपहार हैं खुशियों का संसार हैं
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
आग लगाते लोग
आग लगाते लोग
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
#सनातन_सत्य
#सनातन_सत्य
*प्रणय प्रभात*
चले आना मेरे पास
चले आना मेरे पास
gurudeenverma198
"मित्रता और मैत्री"
Dr. Kishan tandon kranti
"अकेडमी वाला इश्क़"
Lohit Tamta
गांधी जी के नाम पर
गांधी जी के नाम पर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
इन फूलों से सीख ले मुस्कुराना
इन फूलों से सीख ले मुस्कुराना
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
गज़ल बन कर किसी के दिल में उतर जाता हूं,
गज़ल बन कर किसी के दिल में उतर जाता हूं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
स्वप्न श्रृंगार
स्वप्न श्रृंगार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
सफर में हमसफ़र
सफर में हमसफ़र
Atul "Krishn"
ना कुछ जवाब देती हो,
ना कुछ जवाब देती हो,
Dr. Man Mohan Krishna
प्रतिशोध
प्रतिशोध
Shyam Sundar Subramanian
3355.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3355.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
इस उरुज़ का अपना भी एक सवाल है ।
इस उरुज़ का अपना भी एक सवाल है ।
Phool gufran
परख: जिस चेहरे पर मुस्कान है, सच्चा वही इंसान है!
परख: जिस चेहरे पर मुस्कान है, सच्चा वही इंसान है!
Rohit Gupta
किसान भैया
किसान भैया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
अरे आज महफिलों का वो दौर कहाँ है
अरे आज महफिलों का वो दौर कहाँ है
VINOD CHAUHAN
जब स्वार्थ अदब का कंबल ओढ़ कर आता है तो उसमें प्रेम की गरमाह
जब स्वार्थ अदब का कंबल ओढ़ कर आता है तो उसमें प्रेम की गरमाह
Lokesh Singh
सत्यम शिवम सुंदरम🙏
सत्यम शिवम सुंदरम🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दिल से करो पुकार
दिल से करो पुकार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
*दीपक (बाल कविता)*
*दीपक (बाल कविता)*
Ravi Prakash
पुलवामा वीरों को नमन
पुलवामा वीरों को नमन
Satish Srijan
पिछले पन्ने 5
पिछले पन्ने 5
Paras Nath Jha
मै नर्मदा हूं
मै नर्मदा हूं
Kumud Srivastava
ये दुनिया
ये दुनिया
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कहां से कहां आ गए हम..!
कहां से कहां आ गए हम..!
Srishty Bansal
वही खुला आँगन चाहिए
वही खुला आँगन चाहिए
जगदीश लववंशी
Loading...