Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Oct 2023 · 1 min read

*घर के बाहर जाकर जलता, दीप एक रख आओ(गीत)*

घर के बाहर जाकर जलता, दीप एक रख आओ(गीत)
________________________
घर के बाहर जाकर जलता, दीप एक रख आओ
1)
घोर अमावस की अँधियारी, रात आ गई काली
आसमान में चाँद नहीं है, दिखता सब कुछ खाली
पथिक द्वार से होकर जाए, राह उसे दिखलाओ
2)
बिना चाँद के देखो दुनिया, है सूनी कहलाती
जहाँ उजाता नहीं वहाँ पर, दुनिया है कब गाती
घर के भीतर भी उजियारा, बाहर भी फैलाओ
3)
जीवन का बस इतना मतलब, खुश ही रहना सीखो
अर्थ खुशी का भीतर-बाहर, यह ही कहना सीखो
सूरज-चंदा-रूठे यम से, कह दो नहीं डराओ
घर के बाहर जाकर जलता, दीप एक रख आओ
—————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615451

Language: Hindi
1 Like · 219 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
मेरा प्रयास ही है, मेरा हथियार किसी चीज को पाने के लिए ।
मेरा प्रयास ही है, मेरा हथियार किसी चीज को पाने के लिए ।
Ashish shukla
2897.*पूर्णिका*
2897.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
है कौन वो राजकुमार!
है कौन वो राजकुमार!
Shilpi Singh
वाचाल सरपत
वाचाल सरपत
आनन्द मिश्र
असली दर्द का एहसास तब होता है जब अपनी हड्डियों में दर्द होता
असली दर्द का एहसास तब होता है जब अपनी हड्डियों में दर्द होता
प्रेमदास वसु सुरेखा
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ज़रा-सी बात चुभ जाये,  तो नाते टूट जाते हैं
ज़रा-सी बात चुभ जाये, तो नाते टूट जाते हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्यार है रब की इनायत या इबादत क्या है।
प्यार है रब की इनायत या इबादत क्या है।
सत्य कुमार प्रेमी
जो गुजर रही हैं दिल पर मेरे उसे जुबान पर ला कर क्या करू
जो गुजर रही हैं दिल पर मेरे उसे जुबान पर ला कर क्या करू
Rituraj shivem verma
सुना हूं किसी के दबाव ने तेरे स्वभाव को बदल दिया
सुना हूं किसी के दबाव ने तेरे स्वभाव को बदल दिया
Keshav kishor Kumar
तू है जगतजननी माँ दुर्गा
तू है जगतजननी माँ दुर्गा
gurudeenverma198
"पानी"
Dr. Kishan tandon kranti
💐प्रेम कौतुक-511💐
💐प्रेम कौतुक-511💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
#हास्यप्रद_जिज्ञासा
#हास्यप्रद_जिज्ञासा
*Author प्रणय प्रभात*
भाव
भाव
Sanjay ' शून्य'
चरित्रार्थ होगा काल जब, निःशब्द रह तू जायेगा।
चरित्रार्थ होगा काल जब, निःशब्द रह तू जायेगा।
Manisha Manjari
... बीते लम्हे
... बीते लम्हे
Naushaba Suriya
धोखा था ये आंख का
धोखा था ये आंख का
RAMESH SHARMA
गीतिका।
गीतिका।
Pankaj sharma Tarun
गीत
गीत
Shiva Awasthi
निश्छल प्रेम
निश्छल प्रेम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
सेंगोल की जुबानी आपबिती कहानी ?🌅🇮🇳🕊️💙
सेंगोल की जुबानी आपबिती कहानी ?🌅🇮🇳🕊️💙
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
नीम
नीम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
201…. देवी स्तुति (पंचचामर छंद)
201…. देवी स्तुति (पंचचामर छंद)
Rambali Mishra
मन तो करता है मनमानी
मन तो करता है मनमानी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पुण्यधरा का स्पर्श कर रही, स्वर्ण रश्मियां।
पुण्यधरा का स्पर्श कर रही, स्वर्ण रश्मियां।
surenderpal vaidya
Humans and Animals - When When and When? - Desert fellow Rakesh Yadav
Humans and Animals - When When and When? - Desert fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
जीवन चक्र में_ पढ़ाव कई आते है।
जीवन चक्र में_ पढ़ाव कई आते है।
Rajesh vyas
हम ही हैं पहचान हमारी जाति हैं लोधी.
हम ही हैं पहचान हमारी जाति हैं लोधी.
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
अरे शुक्र मनाओ, मैं शुरू में ही नहीं बताया तेरी मुहब्बत, वर्ना मेरे शब्द बेवफ़ा नहीं, जो उनको समझाया जा रहा है।
अरे शुक्र मनाओ, मैं शुरू में ही नहीं बताया तेरी मुहब्बत, वर्ना मेरे शब्द बेवफ़ा नहीं, जो उनको समझाया जा रहा है।
Anand Kumar
Loading...