Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jun 2021 · 1 min read

*** घर के आंगन की फुलवारी ***

** *** ** *** **
वो घर के आंगन की फुलवारी है
प्यार से भी प्यारी है
हंसती खिलती
मुस्कान सुनहरी है
वो घर के आंगन की महकती फुलवारी है

जैसे निकलते सूरज की
किरणों की छावा निराली है
ऐसे घर में तेरे आने से
खुशहाली है
वो घर के आंगन की महकती फुलवारी है

जगमग हो जाएगा
ये सारा जहां
ऐसी किरण
उस खुदा ने हमारे
आंगन मे डाली है
वो घर के आंगन की महकती फुलवारी है

लगती वो
निकलते सूरज की लाली है
कौन छुऐगा तुझे
तू तितली सी मतवाली है
मन चंचल सी तू इतराती
तितलियों की कहानी है
वो घर के आंगन की महकती फुलवारी है

जिससे हमारा घर महकता
सुगंधित दुनिया सारी है
तेरी सुन्दरता सब निहारते
तेरी एक झलक पाने के लिए
तुझे बिटिया-बिटिया पुकारते

जब भी तु मन्द-मन्द मुस्कए
हर कोई तेरी हँसी को
फिर से देखना चाहे
फिर तुझे बेटी-बेटी बुलाये
ये देख हर कोई चाहे
हमारे घर भी
एक नन्हीं परी आए

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 725 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तेरी यादों की
तेरी यादों की
Dr fauzia Naseem shad
ਚੇਤੇ ਆਉਂਦੇ ਲੋਕ
ਚੇਤੇ ਆਉਂਦੇ ਲੋਕ
Surinder blackpen
भीगी पलकें...
भीगी पलकें...
Naushaba Suriya
सदा खुश रहो ये दुआ है मेरी
सदा खुश रहो ये दुआ है मेरी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नज़्म - झरोखे से आवाज
नज़्म - झरोखे से आवाज
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
पितर
पितर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"पते की बात"
Dr. Kishan tandon kranti
देख रही हूँ जी भर कर अंधेरे को
देख रही हूँ जी भर कर अंधेरे को
ruby kumari
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
कहां जाके लुकाबों
कहां जाके लुकाबों
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
*कभी मस्तिष्क से ज्यादा, हृदय से काम लेता हूॅं (हिंदी गजल)*
*कभी मस्तिष्क से ज्यादा, हृदय से काम लेता हूॅं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
या देवी सर्वभूतेषु विद्यारुपेण संस्थिता
या देवी सर्वभूतेषु विद्यारुपेण संस्थिता
Sandeep Kumar
चेहरे पर अगर मुस्कुराहट हो
चेहरे पर अगर मुस्कुराहट हो
Paras Nath Jha
" रे, पंछी पिंजड़ा में पछताए "
Chunnu Lal Gupta
ये मौसम ,हाँ ये बादल, बारिश, हवाएं, सब कह रहे हैं कितना खूबस
ये मौसम ,हाँ ये बादल, बारिश, हवाएं, सब कह रहे हैं कितना खूबस
Swara Kumari arya
माँ जब भी दुआएं देती है
माँ जब भी दुआएं देती है
Bhupendra Rawat
कुछ मुक्तक...
कुछ मुक्तक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मैं बारिश में तर था
मैं बारिश में तर था
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
इतनी महंगी हो गई है रिश्तो की चुंबक
इतनी महंगी हो गई है रिश्तो की चुंबक
कवि दीपक बवेजा
भावनाओं का प्रबल होता मधुर आधार।
भावनाओं का प्रबल होता मधुर आधार।
surenderpal vaidya
सुप्रभात
सुप्रभात
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
■ नहले पे दहला...
■ नहले पे दहला...
*Author प्रणय प्रभात*
भटक ना जाना तुम।
भटक ना जाना तुम।
Taj Mohammad
“मत लड़, ऐ मुसाफिर”
“मत लड़, ऐ मुसाफिर”
पंकज कुमार कर्ण
सुनो, मैं जा रही हूं
सुनो, मैं जा रही हूं
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
महाकविः तुलसीदासः अवदत्, यशः, काव्यं, धनं च जीवने एव सार्थकं
महाकविः तुलसीदासः अवदत्, यशः, काव्यं, धनं च जीवने एव सार्थकं
AmanTv Editor In Chief
माना मन डरपोक है,
माना मन डरपोक है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कॉलेज वाला प्यार
कॉलेज वाला प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
समझदारी का न करे  ,
समझदारी का न करे ,
Pakhi Jain
Loading...