Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2023 · 1 min read

घनाक्षरी राम द्रोह/राम कृपा

राम द्रोह / राम कृपा
घनाक्षरी छंद
***************
धरती के गगन में, बेशुमार छिटके थे,
चमकने वाले नहीं, कोई सितारे बचे।

एक लाख पूत और सवा लाख नाती जाके ,
राम के विरोध में न, कोई भी प्यारे बचे ।

हाय हाय करें कैसे, हाय हाय करने को,
वंश अंश में न कोई, रोवनहारे बचे।

सत्रा लाख साल हुए,बजरंग बली एक,
कभी नहीं हारे सदा, राम सहारे बचे ।

राम विरोधी
घनाक्षरी छंद
हर पत्ता काटते थे,रँग चाहे जैसा भी हो,
अब सारे पत्ते कैसे,भद्दी वाले हो गये।

फिर गई मति ऐसी, गति दुर्गति बनी,
नेकी छोड़ काम सभी, बद्दी वाले हो गये।

प्रदूषणफैलाकर जनमन की गंगा में,
गंदगी से भरी हुई, नद्दी वाले हो गये।

राम के विरोध में रहे हैं जो भी गद्दीवाले,
नहीं बची गद्दी सभी, रद्दी वाले हो गये।

गुरू सक्सेना
नरसिंहपुर मध्यप्रदेश
2/2/23

Language: Hindi
158 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सांसों को धड़कन की इबादत करनी चाहिए,
सांसों को धड़कन की इबादत करनी चाहिए,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
दोहा
दोहा
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
क़दर करके क़दर हासिल हुआ करती ज़माने में
क़दर करके क़दर हासिल हुआ करती ज़माने में
आर.एस. 'प्रीतम'
परिवार के बीच तारों सा टूट रहा हूं मैं।
परिवार के बीच तारों सा टूट रहा हूं मैं।
राज वीर शर्मा
नाथ शरण तुम राखिए,तुम ही प्राण आधार
नाथ शरण तुम राखिए,तुम ही प्राण आधार
कृष्णकांत गुर्जर
तुम      चुप    रहो    तो  मैं  कुछ  बोलूँ
तुम चुप रहो तो मैं कुछ बोलूँ
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
हो मापनी, मफ़्हूम, रब्त तब कहो ग़ज़ल।
हो मापनी, मफ़्हूम, रब्त तब कहो ग़ज़ल।
सत्य कुमार प्रेमी
वक़्त की फ़ितरत को
वक़्त की फ़ितरत को
Dr fauzia Naseem shad
क्या अब भी किसी पे, इतना बिखरती हों क्या ?
क्या अब भी किसी पे, इतना बिखरती हों क्या ?
The_dk_poetry
ग़ज़ल(नाम तेरा रेत पर लिखते लिखाते रह गये)
ग़ज़ल(नाम तेरा रेत पर लिखते लिखाते रह गये)
डॉक्टर रागिनी
राम रावण युद्ध
राम रावण युद्ध
Kanchan verma
पयोनिधि नेह में घोली, मधुर सुर साज है हिंदी।
पयोनिधि नेह में घोली, मधुर सुर साज है हिंदी।
Neelam Sharma
16-- 🌸उठती हुईं मैं 🌸
16-- 🌸उठती हुईं मैं 🌸
Mahima shukla
*जाऍंगे प्रभु राम के, दर्शन करने धाम (कुंडलिया)*
*जाऍंगे प्रभु राम के, दर्शन करने धाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
तुम पर क्या लिखूँ ...
तुम पर क्या लिखूँ ...
Harminder Kaur
देश आज 75वां गणतंत्र दिवस मना रहा,
देश आज 75वां गणतंत्र दिवस मना रहा,
पूर्वार्थ
प्रकृति
प्रकृति
Bodhisatva kastooriya
ओ! चॅंद्रयान
ओ! चॅंद्रयान
kavita verma
मेरे हौसलों को देखेंगे तो गैरत ही करेंगे लोग
मेरे हौसलों को देखेंगे तो गैरत ही करेंगे लोग
कवि दीपक बवेजा
जीवन में सारा खेल, बस विचारों का है।
जीवन में सारा खेल, बस विचारों का है।
Shubham Pandey (S P)
देख तुम्हें जीती थीं अँखियाँ....
देख तुम्हें जीती थीं अँखियाँ....
डॉ.सीमा अग्रवाल
ज़िंदगी  ने  अब  मुस्कुराना  छोड़  दिया  है
ज़िंदगी ने अब मुस्कुराना छोड़ दिया है
Bhupendra Rawat
#drarunkumarshastei
#drarunkumarshastei
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तनहाई
तनहाई
Sanjay ' शून्य'
पहाड़ की सोच हम रखते हैं।
पहाड़ की सोच हम रखते हैं।
Neeraj Agarwal
कदम छोटे हो या बड़े रुकना नहीं चाहिए क्योंकि मंजिल पाने के ल
कदम छोटे हो या बड़े रुकना नहीं चाहिए क्योंकि मंजिल पाने के ल
Swati
कहीं फूलों की बारिश है कहीं पत्थर बरसते हैं
कहीं फूलों की बारिश है कहीं पत्थर बरसते हैं
Phool gufran
याद आते हैं
याद आते हैं
Chunnu Lal Gupta
तूने कहा कि मैं मतलबी हो गया,,
तूने कहा कि मैं मतलबी हो गया,,
SPK Sachin Lodhi
"पंछी"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...