Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Dec 2019 · 1 min read

घनश्याम आयेगा

मेरी चाहत में भी साथी, ऐसा मुकाम आयेगा
अगर चर्चा तेरा होगा तो जाँ मेरा नाम आयेगा
वचन देता हूँ ये राधा , पुकारोंगी मुझे जब भी
तुम्हारे पास उस पल ही तेरा घनश्याम आयेगा

Language: Hindi
1 Like · 232 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जब सावन का मौसम आता
जब सावन का मौसम आता
लक्ष्मी सिंह
नारी कब होगी अत्याचारों से मुक्त?
नारी कब होगी अत्याचारों से मुक्त?
कवि रमेशराज
"दान"
Dr. Kishan tandon kranti
तू उनको पत्थरों से मार डालती है जो तेरे पास भेजे जाते हैं...
तू उनको पत्थरों से मार डालती है जो तेरे पास भेजे जाते हैं...
parvez khan
ईर्ष्या, द्वेष और तृष्णा
ईर्ष्या, द्वेष और तृष्णा
ओंकार मिश्र
8) दिया दर्द वो
8) दिया दर्द वो
पूनम झा 'प्रथमा'
🌹 वधु बनके🌹
🌹 वधु बनके🌹
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
नवरात्रि के सातवें दिन दुर्गाजी की सातवीं शक्ति देवी कालरात्
नवरात्रि के सातवें दिन दुर्गाजी की सातवीं शक्ति देवी कालरात्
Shashi kala vyas
नींद आज नाराज हो गई,
नींद आज नाराज हो गई,
Vindhya Prakash Mishra
Lines of day
Lines of day
Sampada
# जय.….जय श्री राम.....
# जय.….जय श्री राम.....
Chinta netam " मन "
"संगठन परिवार है" एक जुमला या झूठ है। संगठन परिवार कभी नहीं
Sanjay ' शून्य'
कुछ तुम कहो जी, कुछ हम कहेंगे
कुछ तुम कहो जी, कुछ हम कहेंगे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ड्यूटी
ड्यूटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
‘‘शिक्षा में क्रान्ति’’
‘‘शिक्षा में क्रान्ति’’
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
बेटी नहीं उपहार हैं खुशियों का संसार हैं
बेटी नहीं उपहार हैं खुशियों का संसार हैं
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
बेवफ़ाई
बेवफ़ाई
Dipak Kumar "Girja"
जनवरी हमें सपने दिखाती है
जनवरी हमें सपने दिखाती है
Ranjeet kumar patre
पेड़ पौधे फूल तितली सब बनाता कौन है।
पेड़ पौधे फूल तितली सब बनाता कौन है।
सत्य कुमार प्रेमी
बेटा पढ़ाओ कुसंस्कारों से बचाओ
बेटा पढ़ाओ कुसंस्कारों से बचाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*पहले घायल करता तन को, फिर मरघट ले जाता है (हिंदी गजल)*
*पहले घायल करता तन को, फिर मरघट ले जाता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
चाँद बदन पर ग़म-ए-जुदाई  लिखता है
चाँद बदन पर ग़म-ए-जुदाई लिखता है
Shweta Soni
🙅 अक़्ल के मारे🙅
🙅 अक़्ल के मारे🙅
*प्रणय प्रभात*
होली और रंग
होली और रंग
Arti Bhadauria
राम पर हाइकु
राम पर हाइकु
Sandeep Pande
दिन को रात और रात को दिन बना देंगे।
दिन को रात और रात को दिन बना देंगे।
Phool gufran
किताब
किताब
Sûrëkhâ
ज़िंदगी सौंप दी है यूं हमने तेरे हवाले,
ज़िंदगी सौंप दी है यूं हमने तेरे हवाले,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जिद कहो या आदत क्या फर्क,
जिद कहो या आदत क्या फर्क,"रत्न"को
गुप्तरत्न
Loading...