Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2024 · 1 min read

घड़ी का इंतजार है

बेसब्री से उस घड़ी का इंतजार है।
जब तुम कहोगे, हां तुमसे प्यार है।

राह तकते तकते थक जाते हैं नैना
तेरी दीद के बिना,आये न चैना।

क्यों गंवा रहे हो , तुम ये हसीन पल
लौट कर ये वक्त ,नहीं आयेगा कल।

मिलती है ऐसी घड़ियां नसीब से
क्यों उठ के जा रहे हो करीब से।

लौट आओ तुम, बनकर हसीं ख्वाब।
गिले शिकवों का ,फिर लेना हिसाब।

सुरिंदर कौर

Language: Hindi
26 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
प्रेम!
प्रेम!
कविता झा ‘गीत’
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ग़ज़ल की ये क़िताब,
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ग़ज़ल की ये क़िताब,
Sahil Ahmad
*इश्क़ न हो किसी को*
*इश्क़ न हो किसी को*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रे कागा
रे कागा
Dr. Kishan tandon kranti
राखी
राखी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आता है संसार में,
आता है संसार में,
sushil sarna
#पितृदोष_मुक्ति_योजना😊😊
#पितृदोष_मुक्ति_योजना😊😊
*प्रणय प्रभात*
लो फिर गर्मी लौट आई है
लो फिर गर्मी लौट आई है
VINOD CHAUHAN
इम्तहान ना ले मेरी मोहब्बत का,
इम्तहान ना ले मेरी मोहब्बत का,
Radha jha
लोकशैली में तेवरी
लोकशैली में तेवरी
कवि रमेशराज
यूंही सावन में तुम बुनबुनाती रहो
यूंही सावन में तुम बुनबुनाती रहो
Basant Bhagawan Roy
चुनावी घनाक्षरी
चुनावी घनाक्षरी
Suryakant Dwivedi
हर गलती से सीख कर, हमने किया सुधार
हर गलती से सीख कर, हमने किया सुधार
Ravi Prakash
जीवन बरगद कीजिए
जीवन बरगद कीजिए
Mahendra Narayan
पधारे दिव्य रघुनंदन, चले आओ चले आओ।
पधारे दिव्य रघुनंदन, चले आओ चले आओ।
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
सपना है आँखों में मगर नीद कही और है
सपना है आँखों में मगर नीद कही और है
Rituraj shivem verma
सदा प्रसन्न रहें जीवन में, ईश्वर का हो साथ।
सदा प्रसन्न रहें जीवन में, ईश्वर का हो साथ।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भारत के राम
भारत के राम
करन ''केसरा''
घबराना हिम्मत को दबाना है।
घबराना हिम्मत को दबाना है।
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
किसी बच्चे की हँसी देखकर
किसी बच्चे की हँसी देखकर
ruby kumari
14, मायका
14, मायका
Dr Shweta sood
ਕਦਮਾਂ ਦੇ ਨਿਸ਼ਾਨ
ਕਦਮਾਂ ਦੇ ਨਿਸ਼ਾਨ
Surinder blackpen
पूर्ण विराग
पूर्ण विराग
लक्ष्मी सिंह
छोटी सी दुनिया
छोटी सी दुनिया
shabina. Naaz
कविता
कविता
Rambali Mishra
मैं खुश हूँ! गौरवान्वित हूँ कि मुझे सच्चाई,अच्छाई और प्रकृति
मैं खुश हूँ! गौरवान्वित हूँ कि मुझे सच्चाई,अच्छाई और प्रकृति
विमला महरिया मौज
प्रभु शुभ कीजिए परिवेश
प्रभु शुभ कीजिए परिवेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आ ख़्वाब बन के आजा
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
युवा
युवा
Akshay patel
2812. *पूर्णिका*
2812. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...