Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Mar 2017 · 1 min read

गज़ल :– ज़ख्म मेरे ही मुझे सहला रहे हैं ।।

गज़ल :– ज़ख्म मेरे ही मुझे सहला रहे हैं ।।
बहर :- 2122–2122-2122

ख्वाब बन आँखों में अब वो छा रहे हैं ।
ज़ख्म मेरे ही मुझे सहला रहे हैं ।

मन्नतों में जो कभी मांगे हमें थे ,
आज क्यों नज़रें चुराकर जा रहे हैं ।

कर्ज हम रखते नहीँ ज्यादा किसी का ,
उनकी यादें तोल कर लौटा रहे हैं ।

कातिलाना है बड़ी उनकी अदायें ,
अब शहर में जुल्म बढ़ते जा रहे हैं ।

कत्लखानों में ज़रा मंदी हुई क्या ,
देखो वो गंगा नहा कर आ रहे हैं ।

देखिए दहलीज ये पानी में डूबी ,
आप ऐसे आँख क्यों छलका रहे हैं ।

गज़लकार :– अनुज तिवारी “इंदवार”

1 Like · 541 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
रमेशराज की एक तेवरी
रमेशराज की एक तेवरी
कवि रमेशराज
मुक्तक
मुक्तक
नूरफातिमा खातून नूरी
मित्रता
मित्रता
Shashi kala vyas
सफलता यूं ही नहीं मिल जाती है।
सफलता यूं ही नहीं मिल जाती है।
नेताम आर सी
महफ़िल जो आए
महफ़िल जो आए
हिमांशु Kulshrestha
जो धधक रहे हैं ,दिन - रात मेहनत की आग में
जो धधक रहे हैं ,दिन - रात मेहनत की आग में
Keshav kishor Kumar
सकट चौथ की कथा
सकट चौथ की कथा
Ravi Prakash
हक़ीक़त पर रो दिया
हक़ीक़त पर रो दिया
Dr fauzia Naseem shad
शाम के ढलते
शाम के ढलते
manjula chauhan
शुक्रिया जिंदगी!
शुक्रिया जिंदगी!
Madhavi Srivastava
आशार
आशार
Bodhisatva kastooriya
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ७)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ७)
Kanchan Khanna
दोस्तों
दोस्तों
Sunil Maheshwari
बुराई कर मगर सुन हार होती है अदावत की
बुराई कर मगर सुन हार होती है अदावत की
आर.एस. 'प्रीतम'
किस तिजोरी की चाबी चाहिए
किस तिजोरी की चाबी चाहिए
भरत कुमार सोलंकी
#काव्यात्मक_व्यंग्य :--
#काव्यात्मक_व्यंग्य :--
*प्रणय प्रभात*
माँ
माँ
Anju
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
2681.*पूर्णिका*
2681.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
खोजें समस्याओं का समाधान
खोजें समस्याओं का समाधान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बे खुदी में सवाल करते हो
बे खुदी में सवाल करते हो
SHAMA PARVEEN
लक्ष्य जितना बड़ा होगा उपलब्धि भी उतनी बड़ी होगी।
लक्ष्य जितना बड़ा होगा उपलब्धि भी उतनी बड़ी होगी।
Paras Nath Jha
सृष्टि की उत्पत्ति
सृष्टि की उत्पत्ति
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दिन आज आखिरी है, खत्म होते साल में
दिन आज आखिरी है, खत्म होते साल में
gurudeenverma198
सरकारी नौकरी
सरकारी नौकरी
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
सारी रात मैं किसी के अजब ख़यालों में गुम था,
सारी रात मैं किसी के अजब ख़यालों में गुम था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"गलतफहमी"
Dr. Kishan tandon kranti
*सेब का बंटवारा*
*सेब का बंटवारा*
Dushyant Kumar
बूढ़ी मां
बूढ़ी मां
Sûrëkhâ
Loading...