Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

गज़ल (रचना )

गज़ल (रचना )

कभी गर्दिशों से दोस्ती कभी गम से याराना हुआ
चार पल की जिन्दगी का ऐसे कट जाना हुआ

इस आस में बीती उम्र कोई हमें अपना कहे
अब आज के इस दौर में ये दिल भी बेगाना हुआ

जिस रोज से देखा उन्हें मिलने लगी मेरी नजर
आँखों से मय पीने लगे मानो की मयखाना हुआ

इस कदर अन्जान हैं हम आज अपने हाल से
लोग अब कहने लगे कि शख्श बेगाना हुआ

ढल नहीं जाते हैं लब्ज ऐसे ही रचना में कभी
गीत उनसे मिल गया कभी ग़ज़ल का पाना हुआ

गज़ल (रचना )
मदन मोहन सक्सेना

181 Views
You may also like:
आदर्श पिता
Sahil
झूला सजा दो
Buddha Prakash
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
"समय का पहिया"
Ajit Kumar "Karn"
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
आस
लक्ष्मी सिंह
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
अपना ख़्याल
Dr fauzia Naseem shad
मिठाई मेहमानों को मुबारक।
Buddha Prakash
✍️जरूरी है✍️
Vaishnavi Gupta
जीत कर भी जो
Dr fauzia Naseem shad
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
कैसे मैं याद करूं
Anamika Singh
ओ मेरे साथी ! देखो
Anamika Singh
बुआ आई
राजेश 'ललित'
अपनी नज़र में खुद अच्छा
Dr fauzia Naseem shad
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
टूट कर की पढ़ाई...
आकाश महेशपुरी
पापा
सेजल गोस्वामी
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
इश्क करते रहिए
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
"अष्टांग योग"
पंकज कुमार कर्ण
बेचारी ये जनता
शेख़ जाफ़र खान
हम तुमसे जब मिल नहीं पाते
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
Loading...