Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jul 2016 · 1 min read

गज़ल (रचना )

गज़ल (रचना )

कभी गर्दिशों से दोस्ती कभी गम से याराना हुआ
चार पल की जिन्दगी का ऐसे कट जाना हुआ

इस आस में बीती उम्र कोई हमें अपना कहे
अब आज के इस दौर में ये दिल भी बेगाना हुआ

जिस रोज से देखा उन्हें मिलने लगी मेरी नजर
आँखों से मय पीने लगे मानो की मयखाना हुआ

इस कदर अन्जान हैं हम आज अपने हाल से
लोग अब कहने लगे कि शख्श बेगाना हुआ

ढल नहीं जाते हैं लब्ज ऐसे ही रचना में कभी
गीत उनसे मिल गया कभी ग़ज़ल का पाना हुआ

गज़ल (रचना )
मदन मोहन सक्सेना

210 Views
You may also like:
मिसाल
Kanchan Khanna
अपने दिल को ही
Dr fauzia Naseem shad
हिंदी दोहा बिषय:- बेतवा (दोहाकार-राजीव नामदेव 'राना लिधौरी')
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मां के आंचल
Nitu Sah
संघर्ष पथ
Aditya Prakash
मुर्गा बेचारा...
मनोज कर्ण
गीता के स्वर (1) कशमकश
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
ये आंसू
Shekhar Chandra Mitra
बाबू जी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कुड़माई (कुंडलिया)
Ravi Prakash
टविन टोवर
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सर्दी
Vandana Namdev
భగ భగ మండే భగత్ సింగ్ రా!
विजय कुमार 'विजय'
सच्ची पूजा
DESH RAJ
तो क्या तुम्हारे बिना
gurudeenverma198
जमीन की भूख
Rajesh Rajesh
हो नये इस वर्ष
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
-- बड़ा अभिमानी रे तू --
गायक और लेखक अजीत कुमार तलवार
वो भी क्या दिन थे
shabina. Naaz
पुस्तक समीक्षा-प्रेम कलश
राकेश चौरसिया
245. "आ मिलके चलें"
MSW Sunil SainiCENA
कण कण में शंकर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
'%पर न जाएं कम % योग्यता का पैमाना नहीं है'
Godambari Negi
"लाड़ली रानू"
Dr Meenu Poonia
Writing Challenge- रेलगाड़ी (Train)
Sahityapedia
मय्यत पर मेरी।
Taj Mohammad
Daily Writing Challenge: त्याग
'अशांत' शेखर
मैं टूटता हुआ सितारा हूँ, जो तेरी ख़्वाहिशें पूरी कर...
Manisha Manjari
Advice
Shyam Sundar Subramanian
एक चेहरा मन को भाता है
कवि दीपक बवेजा
Loading...