Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jul 2016 · 1 min read

गज़ल (बोल)

गज़ल (बोल)

उसे हम बोल क्या बोलें जो दिल को दर्द दे जाये
सुकूं दे चैन दे दिल को , उसी को बोल बोलेंगें

जीवन के सफ़र में जो मुसीबत में भी अपना हो
राज ए दिल मोहब्बत के, उसी से यार खोलेंगें

जब अपनों से और गैरों से मिलते हाथ सबसे हों
किया जिसने भी जैसा है , उसी से यार तोलेंगें

अपना क्या, हम तो बस, पानी की ही माफिक हैं
मिलेगा प्यार से हमसे ,उसी के यार होलेंगें

जितना हो जरुरी ऱब, मुझे उतनी रोशनी देना
अँधेरे में भी डोलेंगें उजालें में भी डोलेंगें

गज़ल (बोल)
मदन मोहन सक्सेना

248 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ आज का मुक्तक...
■ आज का मुक्तक...
*Author प्रणय प्रभात*
पल का मलाल
पल का मलाल
Punam Pande
छोड़ दो
छोड़ दो
Pratibha Pandey
मार्मिक फोटो
मार्मिक फोटो
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अंग प्रदर्शन करने वाले जितने भी कलाकार है उनके चरित्र का अस्
अंग प्रदर्शन करने वाले जितने भी कलाकार है उनके चरित्र का अस्
Rj Anand Prajapati
पंचचामर छंद एवं चामर छंद (विधान सउदाहरण )
पंचचामर छंद एवं चामर छंद (विधान सउदाहरण )
Subhash Singhai
*देह का दबाव*
*देह का दबाव*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*दादी चली गई*
*दादी चली गई*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
स्तुति - दीपक नीलपदम्
स्तुति - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
रखे हों पास में लड्डू, न ललचाए मगर रसना।
रखे हों पास में लड्डू, न ललचाए मगर रसना।
डॉ.सीमा अग्रवाल
नहीं है प्रेम जीवन में
नहीं है प्रेम जीवन में
आनंद प्रवीण
जिस काम से आत्मा की तुष्टी होती है,
जिस काम से आत्मा की तुष्टी होती है,
Neelam Sharma
रूबरू मिलने का मौका मिलता नही रोज ,
रूबरू मिलने का मौका मिलता नही रोज ,
Anuj kumar
दिल में है जो बात
दिल में है जो बात
Surinder blackpen
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो..
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो..
कवि दीपक बवेजा
कहना तुम ख़ुद से कि तुमसे बेहतर यहां तुम्हें कोई नहीं जानता,
कहना तुम ख़ुद से कि तुमसे बेहतर यहां तुम्हें कोई नहीं जानता,
Rekha khichi
भगतसिंह
भगतसिंह
Shekhar Chandra Mitra
Har Ghar Tiranga : Har Man Tiranga
Har Ghar Tiranga : Har Man Tiranga
Tushar Jagawat
"अंकों की भाषा"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
फूल कुदरत का उपहार
फूल कुदरत का उपहार
Harish Chandra Pande
बदलते चेहरे हैं
बदलते चेहरे हैं
Dr fauzia Naseem shad
*एक व्यक्ति के मर जाने से, कहॉं मरा संसार है (हिंदी गजल)*
*एक व्यक्ति के मर जाने से, कहॉं मरा संसार है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
गीत मौसम का
गीत मौसम का
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
बलिदान
बलिदान
लक्ष्मी सिंह
घाव
घाव
अखिलेश 'अखिल'
वृक्ष धरा की धरोहर है
वृक्ष धरा की धरोहर है
Neeraj Agarwal
आजकल रिश्तें और मक्कारी एक ही नाम है।
आजकल रिश्तें और मक्कारी एक ही नाम है।
Priya princess panwar
Emerging Water Scarcity Problem in Urban Areas
Emerging Water Scarcity Problem in Urban Areas
Shyam Sundar Subramanian
Loading...