Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Oct 2016 · 1 min read

ग्वाल वाल राधिका– गोपियों से अंतस: जितेंद्रकमलआनंद ( पोस्ट८०,गीत)

कवि के गीत वसंती ऋतु में
पवने भी मनमोहित करते ।।

ग्वाल – वाल ,राधिका – गोपियों
से अंतस आनंदित करते ।।
रंग – पर्व , सुकाव्य में ,
अक्षर – भाव घनेरे !
कवि क् गीत वसंती ऋतु में —
पवने भी मन मोहित करते ।।

—– जितेंद्रकमलआनंद

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Comment · 189 Views
You may also like:
दुर्गावती:अमर्त्य विरांगना
दीपक झा रुद्रा
सबको हार्दिक शुभकामनाएं !
Prabhudayal Raniwal
सच मानो
सूर्यकांत द्विवेदी
किस किस को वोट दूं।
Dushyant Kumar
फर्ज
shabina. Naaz
महबूबा से
Shekhar Chandra Mitra
बहन का जन्मदिन
Khushboo Khatoon
मुझसे पहले क्या किसी ने
gurudeenverma198
*भमरौवा शिव मंदिर यात्रा*
Ravi Prakash
क्यों किया एतबार
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल -
Mahendra Narayan
प्यार ~ व्यापार
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
■ चर्चित कविता का नया संस्करण
*प्रणय प्रभात*
मोहब्बत ही आजकल कम हैं
Dr.sima
*मेघ गोरे हुए साँवरे* पुस्तक की समीक्षा धीरज श्रीवास्तव जी...
Dr Archana Gupta
रामभक्त शिव (108 दोहा छन्द)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
धन की देवी
कुंदन सिंह बिहारी
सुबह - सवेरा
AMRESH KUMAR VERMA
" रब की कलाकृति "
Dr Meenu Poonia
द्रौपदी चीर हरण
Ravi Yadav
वैदेही से राम मिले
Dr. Sunita Singh
मील का पत्थर
Anamika Singh
Writing Challenge- कल्पना (Imagination)
Sahityapedia
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
उफ़ यह कपटी बंदर
ओनिका सेतिया 'अनु '
मछली जलपरी
Buddha Prakash
✍️वो मुर्दा ही जीकर गये✍️
'अशांत' शेखर
जाने वाले बस कदमों के निशाँ छोड़ जाते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
हर इक वादे पर।
Taj Mohammad
धरती से मिलने को बादल जब भी रोने लग गया।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...